उमरिया (नईदुनिया प्रतिनिधि)। पनपथा वन बैरियर में खड़े दो ट्रकों से बीती रात तलवार से लैस चोरों ने करीब 500 लीटर डीजल पार कर दिया। इसके अलावा पनपथा बस स्टैंड पर खड़े दो ट्रक से डे़ढ़ सौ लीटर और गुरुवाही बैरियर में खड़े एक ट्रक से करीब तीन सौ लीटर डीजल मशीन की मदद से पार कर दिया गया। इस तरह एक ही रात में करीब पांच ट्रकों से करीब 950 लीटर डीजल पार करके अज्ञात चोरों ने बड़ी वारदात को अंजाम दिया है।

हथियार ने किया भयभीत : मंगलवार की रात हुई इस वारदात के दौरान पनपथा बैरियर में खड़े ट्रक पर ड्राइवर और कंडक्टर भी थे। वे गाड़ी के ऊपर सो रहे थे। उनकी मानें तो आरोपित चार थे, जो तलवार से लैस थे। आरोपित सफेद रंग की किसी गाड़ी से मौके पर पहुंचे थे, जिसे घटना स्थल से कुछ दूर ही खड़ा कर दिया गया था। अनहोनी की आशंका से वे दोनों डर गए और बिना आवाज किए चुपचाप अपनी गाड़ी से करीब 300 लीटर डीजल चोरी होते देखते रहे।

वाहन मालिकों में आक्रोश : बताया जाता है कि घटना के बाद बुधवार की सुबह मोटर मालिकों औऱ स्थानीय ग्रामीणों में इस मामले को लेकर काफी आक्रोश था। इसके बाद करीब आधे घंटे से अधिक समय तक सड़क भी जाम कर दिया गया था। हालांकि बाद में पनपथा वन परिक्षेत्राधिकारी वीरेंद्र ज्योतिषी व वन विभाग की टीम की मदद से समझाइश देकर जाम हटाया गया। बुधवार की सुबह घटना की जानकारी पर इंदवार थाना प्रभारी एमएल वर्मा भी पहुंचे और पूरी कार्रवाई की है। टीआइ एमएल वर्मा ने बताया कि चोरों की तलाश की जा रही है।

इनके साथ हुई लूट : सूत्रों की मानें तो इस वारदात में एमपी-18-5692 मोटर मालिक अनिल ताम्रकार, सीजी-12-एपी- 3938 जितेंद्र तिवारी, यूपी 83-वीसी-5293 पवन कुमार, यूपी-71-एचटी 5619 मोटर मालिक भाऊ कुमार सहित और भी मोटर मालिक हैं, जो इस वारदात के शिकार हुए है। अनिल ताम्रकार, जितेंद्र तिवारी सहित दूसरे मोटर मालिकों ने पुलिस प्रशासन से कार्यवाही की मांग की है। इस मामले में यह भी बताया जाता है कि पनपथा वन बैरियर में देर रात नो एंट्री होती है। इस वजह से शातिर चोर देर रात दूसरे स्थलों के अलावा वन बैरियर में खड़े ट्रकों को भी निशाने पर ले लेते हैं। इंदवार थाना के ग्राम पनपथा में ये पहली घटना नहीं है बल्कि इसके पहले महज कुछ महीनों पहले भी सैकड़ों लीटर डीजल पार कर दिया गया था। पीड़ित मोटर मालिक ने इसकी विधिवत शिकायत भी की थी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close