संजय कुमार शर्मा, उमरिया

उमरिया जिले के सरवाही खुर्द गांव के स्वच्छता मित्रों ने ग्रामीणों को समझाया कि कचरा गांव की सुंदरता पर धब्बा लगा रहा है। अगर इस कचरे का गांव के लोग सही प्रबंधन करने लगे तो न सिर्फ गांव सुंदर दिखने लगेगा बल्कि कचरे से खाद भी मिल सकेगी। यह बात गांव के लोगों को समझ में आ गई और इसके बाद गांव में कूड़ेदान का निर्माण करके उसमें कचरा इकट्ठा किया जाने लगा। पहले ग्रामीण क्षेत्रों में कचरे के निदान की व्यवस्था नही होने से यहां वहां कचरा देखने को मिल ही जाता था, लेकिन अब वही कचरा किसानों के खेतों में उपज बढ़ा रहा है।

कचरा अब कचरा नहीं

सरवाही खुर्द निवासी ईश्वर सिंह ने बताया कि अब गांव का कचरा, कचरा न होकर जैविक खाद के रूप मे परिवर्तित कर दिया जाता है। अब कचरे से भी हम लोग खाद अर्जित करने लगे है। नॉडेप के माध्यम से जैविक उर्वरक तैयार करने की तकनीक स्वच्छता मिशन के अमले द्वारा सिखाई गई जो बड़े काम की तकनीक है। इससे गांव की सफाई के साथ ही जैविक खेती को भी बढ़ावा मिल रहा है। इसका लाभ गांव के लोग पिछले दो सालों से उठा रहे हैं।

स्वच्छता मित्रों ने दिखाया रास्ता

ग्रामीण क्षेत्रों में कचरे के निदान की व्यवस्था नही होने से यहां वहां कचरा देखने को मिल ही जाता था। साथ ही पशु पालन के कारण भी गोबर रास्तों मे पड़ा रहता था। स्वच्छता मित्रों ने बैठक लेकर ग्रामीणों को समझाईश दी कि यहां वहां जो कचरा पड़ा रहता है उसके सड़नें से कीटाणु पैदा होते है तथा तरह तरह की बीमारियां फैलती है। यदि यह कचरा एक जगह एकत्र कर दिया जाए तो बीमारियों से निदान मिल जाएगा तथा गांव भी स्वच्छ एवं सुंदर दिखने लगेगा। उनकी सलाह मानकर गांव वालों ने नॉडेप का निर्माण कराकर कचरा डालना शुरू किया।

पंचायत ने कराया नाडेप का निर्माण

स्वच्छता मित्रों की सलाह के बाद गांव के लोगों ने कचरा प्रबंधन की सहमति जताई और पंचायत से नाडेप के निर्माण के लिए कहा गया। पंचायत ने नाडेप का निर्माण करा दिया और ग्रामीणों ने कचरा प्रबंधन शुरू कर दिया। नाडेप में गांव भर का गोबर और ऐसा कचरा डाला जाने लगा जिसका उपयोग खाद के रूप में किया जा सकता है। नाडेप के दूसरे हिस्से में दूसरा वह कचरा डाला जाने लगा जो पूरी तरह अनुपायोगी था। इस अभियान में गांव के ईश्वर सिंह, मुन्नाा सिंह, बुद्धा सिंह सहित कई लोगों ने अहम भूमिका निभाई।

इनका कहना है

ग्राम सरवाही में स्वच्छता मित्रों ने ग्रामीणों को दिशा देने का अनोखा कार्य किया है। इसी तरह का प्रोत्साहन दूसरे गांवों में भी देने का प्रयास स्वच्छता मित्र कर रहे हैं।

मनीषा कांड्रा

कोआर्डिनेटर स्वच्छ भारत अभियान

ग्राम सरवाही में स्वच्छता के लिए ग्रामीणों ने अहम कदम उठाए हैं। इसके लिए वहां स्वच्छता मित्रों की भूमिका अहम रही है। यही प्रदर्शन हम जिले के सभी गांवों में करना चाहते है।

ईला तिवारी

सीईओ जिला पंचायत उमरिया

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close