उमरिया, नईदुनिया प्रतिनिधि। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय उमरिया में पदस्थ राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के जिला परियोजना प्रबंधक (डीपीएम) ने अपनी पत्नी के नाम पर लाखों का भुगतान कर दिया। जांच के बाद राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन मध्यप्रदेश की मिशन संचालक प्रियंका दास ने मंगलवार को आदेश जारी कर डीपीएम जवाहर विश्वकर्मा की सेवा समाप्त कर दी। आरोप हैं कि डीपीएम ने बिना काम के अपनी पत्नी के नाम पर भुगतान कर दिया। इस मामले में सीएमएचओ ने भी डीपीएम के खिलाफ प्रतिवेदन दिया है।

कलेक्टर ने कराई जांच :

कलेक्टर संजीव श्रीवास्तव ने इस मामले की जांच कराई तो यह बात सामने आई कि संविदा कर्मचारी जवाहर विश्वकर्मा की पत्नी के नाम से भोपाल स्थित फर्म सिराज इंटरप्राइजेज को बिना टेंडर के प्रिंटिंग का काम दिया गया। बिना सप्लाई के बिल लग गए और डीपीएम ने स्वयं ही सत्यापन कर बिलों का भुगतान कर दिया।

जुलाई 2021 में खरीद :

जुलाई 2021 में उक्त खरीद आदेश जारी किया गया था। जिन कामों और सामग्री का बिल लगाया गया, वह सामग्री भंडार गृह में थी ही नहीं, न ही रजिस्टर में दर्ज किया गया। इस बात की जानकारी भंडार गृह प्रभारी ने दिसंबर 2021 को सीएमएचओ को दी। इसके बाद कलेक्टर ने इस मामले की जांच कराई।

सेवा समाप्ति के आदेश जारी

पत्नी के नाम पर फर्म को भुगतान करने के मामले की जांच चल रही थी। मिशन संचालक ने सेवा समाप्ति के आदेश जारी कर दिए हैं। -आरके मेहरा, सीएमएचओ

Posted By: Mukesh Vishwakarma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close