उमरिया(नईदुनिया प्रतिनिधि)। कलेक्टर संजीव श्रीवास्तव ने कार्य में लापरवाही बरतने, कर्तव्य विमुखता, स्वेच्छाकारिता व अनुशासनहीनता एवं वरिष्ठ अधिकारी के आदेशों की अव्हेलना करने पर पिंकी हिन्दूजा आबकारी उप निरीक्षक वृत्त नौरोजाबाद और श्रम निरीक्षक ए पी सिंह को मप्र सिविल सेवा वर्गीकरण, नियंत्रण तथा अपील नियम के तहत निलंबित कर दिया है। निलंबन अवधि में इनका मुख्यालय जिला आबकारी कार्यालय नियत किया गया है।

नहीं की थी दुकान सीलः कोविड- 19 महामारी के रोकथाम के लिए कोरोना कर्फ्यू घोषित करते हुए जिले में संचालित सभी देशी, विदेशी मदिरा दुकाने सील किए जाने के निर्देश दिए गए थे, लेकिन सुश्री पिकंकी हिन्दुजा तत्कालीन आबकारी उप निरीक्षक वृत्त नौरोजाबाद के क्षेत्रांतर्गत विंन्ध्या तथा पाली नगर में सील की गई मदिरा दुकान अवैध रूप से पिछले दरवाजे को सील नही किया था। इससे स्पष्ट हो गया कि सुश्री हिन्दुजा द्वारा अपने क्षेत्र में निरीक्षण, पर्यवेक्षण नही किया जा रहा है।

पहले भी दिया गया था नोटिसः पूर्व में नोटिस के माध्यम से सुश्री हिन्दूजा को नोटिस देकर सुधार लाने के लिए निर्देशित किया गया था, इसके बावजूद भी शासकीय कार्य में कोई सुधार नही किया गया। जिस पर कलेक्टर ने पिंकी हिन्दूजा आबकारी उप निरीक्षक वृत्त नौरोजाबाद को मप्र सिविल सेवा वर्गीकरण, नियंत्रण तथा अपील नियम के तहत तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। निलंबन अवधि में इनका मुख्यालय जिला आबकारी अधिकारी नियत किया गया है। निलंबन अवधि में जीवन निर्वाह भत्ते की पात्रता होगी।

निर्देश के बाद भी नहीं हुए हाजिरः कलेक्टर संजीव श्रीवास्तव द्वारा 25 अप्रैल को ग्राम पंचायत लोढा एवं धनवार का निरीक्षण किया गया । निरीक्षण के दौरान ए पी सिंह श्रम निरीक्षक को उपस्थित रहते हुए जिले में प्रवासी मजदूरों की समस्याओ के निराकरण एवं आवागमन की जानकारी, कोविड 19 की टेस्िटग, क्वारंटाइन, आईसोलेशन इत्यादि के लिए कलेक्ट्रेट कार्यालय के कंट्रोल रूम में श्रम निरीक्षक की सेवाएं अधिग्रहित करते हुए नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया था। इनके द्वारा डाक्टर की पर्ची के अनुसार 10 अप्रैल को कोरोना पाजिटिव आए थे, परंतु उनके द्वारा कोई सूचना सहायक श्रम पदाधिकारी को नही दी गई। जब इनकी ड्यूटी 25 अप्रैल को प्रवासी श्रमिकों के लिए लगाई गई। इस दौरान उनके द्वारा छु्‌टटी का आवेदन दिया गया। जब प्रवासी श्रमिक कंट्रोल रूम मे इनकी ड्यूटी लगाई गई तब इनके द्वारा पुनः छुट्टी का आवेदन दिया गया। श्री सिंह आज तक श्रम कार्यालय में उपस्थित नहीं हुए और न ही डॉक्टर द्वारा जारी फार्म 3 प्रस्तुत किया गया। जिससे जिले में कोविड 19 महामारी में प्रवासी श्रमिकों की व्यवस्था प्रभावित हुई है। यही कारण है कि कलेक्टर ने इन्हें निलंबित कर दिया ।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags