उमरिया (नईदुनिया प्रतिनिधि)। आदिवासी समाज की महिलाओं और युवतियों ने वृक्षों को राखी बांधकर उनकी सुरक्षा का संकल्प लिया है। महिलाओं का कहना है कि नए पौधे लगाना जितना जरूरी है उससे ज्यालदा जरूरी पुराने वृक्षों की सुरक्षा करना है। आदिवासी समाज के प्रतिष्ठित व्यक्ति और आदिवासी विकास परिषद के संयोजक बाला सिंह टेकाम ने कहा कि आदिवासी समाज जंगल और जमीन से जुड़ा हुआ समाज है और यही कारण है कि इस समाज के लोगों को वृक्षों का महत्व मालूम है। यही कारण है कि समाज की महिलाओं ने वृक्षों को राखी बांधकर वृक्षों की सुरक्षा का संकल्प लिया है।

लोढ़ा में भी वृक्षों को बांधी राखी

अंतर्राष्ट्रीय बैगा आदिवासी चित्रकार जोधइया बाई बैगा ने वृक्ष को राखी बांधकर प्रकृति के प्रति अपनी आस्था प्रकट की है। उन्होंने कहा कि वृक्ष हमारी रक्षा करते हैं, वे हमें ऑक्सीजन देते हैं जिससे हमारा जीवन चलता है। इनकी रक्षा का दायित्व हम सब पर है। उन्होंने चित्रकार आशीष स्वामी को याद करते हुए कहा कि जब वे होते थे तब वे भी वृक्षों के बारे में काफी चिंतन किया करते थे और वृक्षों की सुरक्षा के लिए सभी को समझाते भी थे। जोधइया बाई आशीष स्वामी को अपने भाई जैसा प्रेम करती थी संभवता उनके न रहने पर उन्होंने प्रकृति के साथ रक्षाबंधन मनाकर अपना स्नेह उनके प्रति व्यक्त किया है।

कलेक्टर को बांधी राखी

रक्षा बंधन के पावन पवित्र पर्व पर कलेक्टर संजीव श्रीवास्तव सपत्नीक श्रीमती रुचि श्रीवास्तव को उनके निज निवास पहुँच राजयोगनी ब्रह्माकुमारी लक्ष्मी बहन व उनकी सहयोगी बहनों द्वारा राखी बांधी गई। सर्वप्रथम कलेक्टर सपत्नीक को ज्ञान स्मृति का तिलक लगाकर राखी बांधी व उनका मुख मीठा कराया व साल श्रीफल भेट करते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना कर परम् पिता परमात्मा शिव बाबा से दुआएं मांगी। जिला मुख्यालय के शान्ति मार्ग स्थित प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय राजयोग मेडिटेशन केंद्र ब्रह्माकुमारी आश्रम की देवी बहनों भाइयों द्वारा विगत कई वर्षों इस तरह के पुनीत कार्य किये जाते है। उक्त कार्यक्रम मे रिया बहन, प्रियंका बहन, मीनू बहन व भ्राता एस, कुमार उपस्थित रहे ।

जेल में हुआ आयोजन

जिला जेल के बंदियों को उनके परिजन राखी बांधन पहुंचे। जेल में विचाराधी कैदियों के लिए रक्षाबंधन मनाने के लिए बेहतर व्यवस्थाएं की गई थी। रक्षा बंधन के इस अवसर पर बहनों ने अपने कैदी भाइयों की सलामती की दुआएं की।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close