विदिशा (नवदुनिया प्रतिनिधि)। विदिशा जिले में मंगलवार की देर शाम एक 92 वर्षीय कोरोना मरीज की मौत हो गई। कोरोना की तीसरी लहर के दौरान जिले में यह पहली मौत है। मेडिकल कालेज से मिली जानकारी के अनुसार विदिशा निवासी धर्मचंद जैन को सोमवार को दोपहर डेढ़ बजे भर्ती कराया गया था। उनकी कमर की हड्डी टूट गई थी। उपचार के पहले उनका कोरोना टेस्ट कराया गया था, जिसमें वे पॉजिटिव पाए गए थे। मृतक मूलतः कानूनगो वार्ड बीना के रहने वाले थे, लेकिन पिछले कुछ महीनों से वे विदिशा में ही रह रहे थे। मेडिकल कालेज के सीएमओ डॉ. वैभव जैन ने कोरोना मरीज की मौत की पुष्टि की है। हालांकि उनका कहना था कि मौत की वजह कोरोना नही है। बुधवार को उनका अंतिम संस्कार कोरोना गाइडलाइन के तहत किया गया।

मालूम हो, कोरोना की दूसरी लहर में जिले में 400 से अधिक लोगों की मौत हुई थी। इसके बाद कोरोना मरीज की यह पहली मौत है। कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रान के बाद जिले में संक्रमण की रफ्तार काफी तेज है। बीते 11 दिनों में 234 लोग कोरोना संक्रमण की चोइट में आ चुके है। सीएमएचओ डॉ. अखंड प्रताप सिंह के मुताबिक अब तक कोरोना से स्वस्थ्य होने पर 19 लोगों को डिस्चार्ज किया जा चुका है। जिले में भी कोरोना के सक्रिय मरीजों की संख्या 215 है।

सरकारी दफ्तरों में पहुंचा कोरोना संक्रमण

जिले में घरों के अलावा सरकारी दफ्तरों में भी कोरोना का संक्रमण पहुंच चुका है। एक दिन पहले कलेक्ट्रेट में भू अभिलेख अधीक्षक राजेश राम और डीएफओ राजवीर सिंह कोरोना पॉजिटिव पाए गए है। राजेश राम सोमवार को टीएल की बैठक में भी शामिल हुए थे। उसी दिन उन्होंने कोरोना टेस्ट कराया था। आज बुधवार को भी कलेक्ट्रेट के उसी सभाकक्ष में प्रभारी मंत्री विश्वास सारंग सभी अधिकारियों के साथ मिलकर विभागों की समीक्षा बैठक भी करने वाले है।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local