कुरवाई। श्री राम मंदिर निर्माण निधि संग्रह अभियान के दौरान एक अनोखा मामला सामने आया, जिसमें दतेरा निवासी राकेश आचार्य की माताजी शांति देवी आचार्य उम्र 85 साल ने मंदिर के लिए अपनी वृद्धा पेंशन में से 2100 सौ रूपये दान करने के कुछ ही घण्टे बाद प्राण त्याग दिए।

सीहोरा अभियान के निधि प्रमुख मृगेन्द्र सेन ने बताया कि सुबह 9 बजे राकेश शर्मा ने राकेश सूर्यवंशी से कहा कि माता जी को मंदिर के लिए दान देना है तो राकेश सूर्यवंशी ने कहा कि अभियान टोली आपके घर आयेगी।

इसके बाद टोली का एकत्रीकरण ग्राम सिरावली जाने के लिए सेंट्रल बैंक के सामने हो रहा था, तभी राकेश आचार्य जी ने टोली से आग्रह किया कि माता जी दान देना चाहती है आप सब लोग अभी घर चलें।

टोली जब घर गई तो माता जी ने शांत भाव से टोली की ओर देखा टोली ने कूपन एवं फोल्डर माता जी को दि‍या।माता जी ने प्रसन्न चित मुद्रा में दान राशि निधि प्रमुख को दी।टोली के वापिस जाने के कुछ ही घण्टे बाद माता जी ने अंतिम सांस ली औंर अपने प्राण त्याग दिए। प्रत्यक्ष दर्शियों का ऐसा कहना था कि माताजी ने शायद केवल मंदिर के लिए निधि देने के लिए ही अपने प्राणों को रोककर रखे थेे। इस मौके पर अभियान प्रमुख जितेंद्र कुशवाह, सह प्रभारी दामोदर राय,निधि प्रमुख मृगेन्द्र सेन,उमाशंकर प्रजापति,राजकुमार दांगी, विनोद राय,राकेश सूर्यवंशी एवं केशव कोल उपस्थित रहे।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags