विदिशा (नवदुनिया प्रतिनिधि)। विदिशा नगर पालिका अध्यक्ष के लिए चली दो दिन की मशक्कत के बाद भी जब एक नाम पर सहमति नहीं बनी तो सोमवार को चुनाव के समय के ठीक पहले भोपाल से आए एक फोन पर आलाकमान का फैसला सुनाया गया और वार्ड 36 से पार्षद चुनी गई प्रीति राकेश शर्मा को नगर पालिका का नया अध्यक्ष चुन लिया गया। इसके बाद वार्ड चार से चुने गए पार्षद संजय दिवाकीर्ति को उपाध्यक्ष बना दिया गया। भाजपा के स्पष्ट बहुमत वाली परिषद में कांग्रेस ने औपचारिकता निभाने के लिए अपने प्रत्याशी खड़े किए और उन्हें हार का सामना करना पड़ा। इस परिषद में भाजपा नेता मुकेश टंडन और श्याम सुंदर शर्मा की एकतरफा चली। टंडन अपने कट्टर समर्थक राकेश शर्मा की पत्नी को अध्यक्ष बनवाने में कामयाब रहे, वहीं शर्मा ने उपाध्यक्ष अपने समर्थक संजय दिवाकीर्ति को बनवा दिया।

नगर पालिका चुनाव में पार्षद पद के प्रत्याशी घोषित होते ही प्रीति राकेश शर्मा को अध्यक्ष पद का दावेदार बताया जा रहा था। उनके लिए पहली चुनौती पार्षद का चुनाव जीतना था। अपना वार्ड छोड़कर वार्ड 36 से चुनाव मैदान में उतरी प्रीति शर्मा कांग्रेस प्रत्याशी को पराजित कर पार्षद बनने में सफल रही। इसके बाद अध्यक्ष को लेकर भी उनका नाम पहले नंबर पर ही रहा। एक पखवाड़े तक चले घमासान के बाद दो दिनों तक बंद कमरे में बैठकें और रायशुमारी चलती रही। इस दौरान सपना राजेश जैन, रानू संतोष शर्मा, गीतांजलि संदीप डोंगर सिंह के नामों पर भी चर्चा हुई लेकिन आम सहमति नहीं बन पाई। सोमवार को सुबह साढ़े नौ बजे चुनाव प्रक्रिया शुरू होने से पहले भाजपा की पर्यवेक्षक सीमा सिंह जादौन ने भोपाल से मोबाइल फोन पर पार्टी नेतृत्व का फैसला सुनाते हुए प्रीति राकेश शर्मा को अध्यक्ष पद का प्रत्याशी घोषित कर दिया। इधर, 6 पार्षदों के बलबूते कांग्रेस ने भी वार्ड 33 की पार्षद ममता राजू दांगी को अध्यक्ष का प्रत्याशी बनाकर उसका नामांकन फार्म जमा करा दिया। मतदान के दौरान 39 में से 36 पार्षदों ने वोट डाले, जिसमें से 30 वोट भाजपा की प्रीति शर्मा को और 6 वोट कांग्रेस की ममता को मिले।जिला निर्वाचन अधिकारी एवम कलेक्टर उमाशंकर भार्गव ने प्रीति शर्मा के जीत की घोषणा करते हुए उन्हें जीत का प्रमाणपत्र प्रदान किया। इस दौरान भाजपा के वरिष्ठ नेता मुकेश टंडन, पूर्व मंत्री सूर्यप्रकाश मीणा और श्याम सुंदर शर्मा मौजूद थे।

तीन निर्दलियों ने नहीं डाले वोट, तीन भाजपा के पाले में गए

अध्यक्ष के लिए हुए मतदान में तीन निर्दलीय पार्षद शामिल नहीं हुए। इनमें अशोक जाट, राखी हिमांशु राजोरिया और संध्या राजेश लोधी शामिल रहे। इसके अलावा तीन निर्दलीय पार्षदों ने भाजपा के समर्थन में मतदान किया, जिसमें दो निर्दलीय पार्षद कांग्रेस से जुड़े रहे हैं। सूत्रों के अनुसार भाजपा प्रत्याशी को समर्थन देने वालो में कांग्रेस से जुड़े रमा नीतेश राजा यादव, आयुषी अग्रवाल के अलावा भाजपा से जुड़े रहे सतीश यादव की माताजी मालती यादव शामिल रहे।

39 पार्षदों ने डाले वोट, संजय दिवाकीर्ति बने उपाध्यक्ष

अध्यक्ष के लिए भले ही 36 पार्षदों ने वोटिंग की लेकिन दोपहर को उपाध्यक्ष के लिए हुए मतदान में सभी 39 पार्षदों ने मतदान किया। भाजपा ने उपाध्यक्ष के लिए संजय दिवाकीर्ति को अपना प्रत्याशी बनाया था, वहीं कांग्रेस ने धर्मेंद्र यादव को अपना प्रत्याशी घोषित किया था। मतदान के बाद भाजपा के संजय दिवाकीर्ति को 32 और कांग्रेस के धर्मेंद्र यादव को 7 वोट मिले। संजय भाजपा नेता श्याम सुंदर शर्मा के समर्थक हैं। कृषि मंडी में अनाज व्यापारी संजय को पार्षद का टिकट भी शर्मा की अनुशंसा पर ही मिला था।

एक फोन ने दावेदारों की उम्मीदों पर फेरा पानी

भाजपा नेताओं द्वारा एक दिन पहले रविवार को की गई रायशुमारी के बाद ही अध्यक्ष पद के प्रत्याशी के लिए प्रीति शर्मा के नाम की चर्चा थी लेकिन प्रमुख दावेदारों में शामिल सपना राजेश जैन और रानू संतोष शर्मा को उम्मीद थी कि भाजपा आलाकमान उनके पक्ष में फैसला सुना सकता हैं।इसी के चलते सोमवार सुबह भाजपा के सभी पार्षदों के साथ वे भी सांची रोड स्थित एक निजी होटल में पहुंचे थे। यहां मुकेश टंडन,सूर्यप्रकाश मीणा और श्याम सुंदर शर्मा मौजूद थे।पार्षदों को बताया गया था कि यहां भाजपा पर्यवेक्षक सीमा सिंह जादौन प्रत्याशी के नाम की घोषणा करेगी लेकिन साढ़े नौ बजे तक वे विदिशा नहीं पहुंची ,उन्होंने मोबाइल फोन के जरिए पार्टी नेतृत्व का फैसला सुनाते हुए प्रीति शहर शर्मा को प्रत्याशी बनाए जाने की घोषणा कर दी। यह सुनते ही दावेदारों की उम्मीदों पर पानी फिर गया।कुछ दावेदारों ने इस पर आक्रोश भी व्यक्त किया लेकिन वे पार्टी गाइड लाइन से अलग नहीं जा पाए।

सड़कों की बदहाली दूर करना पहली प्राथमिकता

नवनिर्वाचित नपा अध्यक्ष प्रीति शर्मा ने अपनी जीत को संगठन की जीत बताते हुए कहा कि उनकी पहली प्राथमिकता शहर की सड़कों की बदहाली को दूर करना रहेगा।उन्होंने कहा कि वे पार्टी नेतृत्व की मंशानुसार शहर का विकास करने में अपना योगदान देगी। इधर, पूर्व नपा अध्यक्ष मुकेश टंडन ने कहा कि भाजपा की परिषद का मुख्य ध्येय सबके साथ शहर का विकास रहेगा।इस चुनाव में भाजपा समर्थित पार्षदों के अलावा अन्य पार्षदों ने भी मुख्यमंत्री के कार्यों से प्रभावित होकर भाजपा का समर्थन किया हैं। इसके लिए सभी को धन्यवाद देते हैं। टंडन का कहना था कि अध्यक्ष चयन को लेकर पार्टी में कोई मतभेद नहीं हैं।

गंजबासौदा में शशि यादव बनी अध्यक्ष

गंजबासौदा नगर पालिका में अध्यक्ष पद पर भाजपा की शशि यादव ने जीत हासिल की। 24 पार्षदों वाली नपा में यादव को 17 और कांग्रेस प्रत्याशी सौदान सिंह को 7 वोट मिले। यहां उपाध्यक्ष के चुनाव में बड़ा उलटफेर हो गया,जिसके चलते निर्दलीय पार्षद संदीप ठाकुर उपाध्यक्ष बनने में सफल रहे। यहां भाजपा ने उपाध्यक्ष के लिए संतोष मैना को अपना प्रत्याशी बनाया था और कांग्रेस ने मंजू ठाकुर को मैदान में उतारा था। वही निर्दलीय के तौर पर संदीप ठाकुर ने नामांकन दाखिल किया था। आखरी समय में कांग्रेस की मंजू ठाकुर ने अपना नामांकन वापस लेते हुए संदीप को समर्थन दे दिया। इस चुनाव में भाजपा के संतोष को 11 और निर्दलीय संदीप को 13 वोट मिले।दो वोटों से जीतकर संदीप ठाकुर उपाध्यक्ष चुन लिए गए।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close