विदिशा ( नवदुनिया प्रतिनिधि)। लटेरी के जंगल में तीन दिन पहले मंगलवार की रात को वनकर्मियों द्वारा की गई फायरिंग में एक आदिवासी युवक की मौत के मामले में पुलिस ने हत्या के नामजद आरोपित डिप्टी रेंजर निर्मल अहिरवार को शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया। उन्हें न्यायालय में पेश किया गया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया।इधर, पुलिस और प्रशासन की कार्रवाई से नाराज वनकर्मियों ने कलेक्टर उमाशंकर भार्गव को ज्ञापन सौंपा, जिसमें इस घटना की न्यायिक जांच की मांग की है।

मालूम हो,9 अगस्त की रात को रायपुरा गांव के लोग जंगल से लकड़ी काटकर ले जा रहे थे। इसी दौरान उनकी वनकर्मियों से मुठभेड़ हो गई थी। इसी दौरान वनकर्मियों ने उन पर फायरिंग कर दी, जिसमें चैनसिंग भील नामक युवक की घटना स्थल पर ही मौत हो गई थी और चार अन्य आदिवासी घायल हो गए थे। लटेरी पुलिस ने घायलों की शिकायत पर डिप्टी रेंजर निर्मल अहिरवार सहित अन्य पर भादवि की धारा 302,307 और 34 के तहत मामला दर्ज किया था। एडिशनल एसपी समीर यादव ने बताया कि शुक्रवार सुबह आरोपित डिप्टी रेंजर को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया गया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया हैं।यादव ने बताया कि एसपी मोनिका शुक्ला ने इस मामले की जांच के लिए सिरोंज एसडीओपी सौरभ तिवारी के नेतृत्व में आठ सदस्यीय स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम नियुक्त की हैं। इस टीम ने अपनी तहकीकात शुरू कर दी हैं।उन्होंने बताया कि गोलियां किस बंदूक से चली, इसकी जांच के लिए वन विभाग की 13 बंदूकों को जब्त किया गया हैं। इन शस्त्रों की बैलेस्टिक एक्सपर्ट से जांच कराई जाएंगी।

वनकर्मियों ने की न्यायिक जांच की मांग

लटेरी घटना को लेकर शुक्रवार को जिले भर के वनकर्मी लामबंद हो गए हैं। शुक्रवार को मध्यप्रदेश वन और वन्यप्राणी संरक्षण कर्मचारी संघ ने कलेक्टर उमाशंकर भार्गव को ज्ञापन सौंपकर न्यायिक जांच की मांग की हैं।संघ ने पुलिस पर एकतरफा कार्रवाई करने का भी आरोप लगाया हैं। संघ ने अपने ज्ञापन में चेतावनी दी है कि यदि प्रशासन ने निष्पक्ष जांच नहीं की तो जिले भर में नियुक्त वनकर्मी शासकीय शस्त्रों को वन मंडल में जमा कर देंगे और सरकार तथा प्रशासन के खिलाफ आंदोलन को मजबूर होंगे।ज्ञापन सौंपते समय संघ के अध्यक्ष अतुल कुशवाह सहित अन्य पदाधिकारी मौजूद थे।

मृतक को बताया लकड़ी चोरी का आरोपित

संघ ने ज्ञापन के साथ कुछ दस्तावेज भी कलेक्टर को सौंपे है, जिसमें मृतक आदिवासी चैन सिंग को लकड़ी चोरी का आरोपित बताया गया हैं। संघ का कहना है कि मृतक आदतन लकड़ी चोर था। वन विभाग के अमले ने पिछले साल 29 अप्रैल को उसे लकड़ी चोरी के मामले में गिरफ्तार भी किया था। उस पर वन अधिनियम के तहत अपराध भी दर्ज हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close