विदिशा, Dev Uthani Gyaras 2020। देवउठनी एकादशी को लेकर पूजन सामग्री की दुकानों से बाजार सज गया है। शहर के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों से बड़ी संख्या में छुटपुट दुकानदार पूजन सामग्री लेकर शहर आए और देवालयों सहित विदिशा के मुख्य चौक चौराहों पर दुकानें सजा ली हैं। बता दें कि इस साल देवउठनी एकादशी को लेकर शहर के विद्वान एकमत नहीं है, जिसके चलते बुधवार और गुरुवार 2 दिन एकादशी मनाई जाएगी। इसी के चलते बुधवार की सुबह से ही विदिशा के बाजार में पूजन सामग्री की दुकानें सज गई हैं। जहां पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु पूजन सामग्री खरीद रहे हैं। बुधवार को बाजार में पूजन के लिए लोग ज्वार के गुच्छों को ढूंढते रहे, लेकिन गिने-चुने स्थानों पर ही यह उपलब्ध था, जो प्रति नग 20 रुपए में मिल रहा था। इसके अलावा कमल पुष्प 20 रुपए में बेचा जा रहा था। जिले में ज्वार की खेती बहुत ही कम होने लगी है जिसके चलते पूजन के लिए भी लोगों को यह आसानी से उपलब्ध नहीं हो सका।

मौसमी फल और अनाज करते हैं अर्पित

देवउठनी एकादशी की पूजन में मौसमी फल और अनाज अर्पित करने की परंपरा है। खासकर गन्ना, ज्वार का गुच्छा, बेर, गाजर, मूली, चना की भाजी, जामफल आदि मौसमी अनाज और फल मुख्य रूप से भगवान को अर्पित किए जाते हैं। पंडित उपदेश शास्त्री बताते हैं कि कई लोग देवउठनी एकादशी के पहले इन मौसमी फल और अनाज का सेवन नहीं करते। वह सबसे पहले एकादशी पर यह फल भगवान को अर्पित करते हैं, इसके बाद वह स्वयं उन्हें ग्रहण करते हैं।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस