विदिशा (नवदुनिया प्रतिनिध)। मौसम विभाग द्वारा सात, आठ और नो जनवरी को संभावित मौसम खराब होने की जानकारी के चलते चार दिन तक मंडी में अवकाश घोषणा और धान के दाम कम मिलने से गुस्साए किसानों ने गुरूवार को कृषि उपज मंडी के बाहर हाईवे परचक्काजाम कर गेट में ताले लगा दिए। मौके पर पहुंची तहसीलदार ने किसानों को समझाया और मंडी समिति को नीलामी शुरू कराने के निर्देश दिए। करीब दो घंटे बाद नीलामी शुरू हो सकी।

कृषि उपज मंडी में कम दाम का आरोप लगाते हुए किसानों ने इस सीजन में दूसरी बार नेशनल हाईवे पर चक्काजाम कर दिया। इस दौरान किसी ने मंडी गेट में ताला लगा दिया। करीब एक घंटे बाद किसानों से चर्चा करने पहुंचे मंडी सचिव कमल बगवैया की किसानों से खूब बहस हुई बाद में किसानों से उनसे बात करने से ही इंकार दिया। जिसके चलते वह मंडी में चले गए। ग्राम कोलिंजा के किसान तोरण सिंह रघुवंशी, कराखेडी के तुलसीराम ठाकुर, सुरेंद्र रघुवंशी, ग्राम विघन के किसान चेतनसिंह चौहान, वीरेंद्र दांगी, खेरुआ के हरनामसिंह रघुवंशी का कहना था कि मौसम विभाग की घोषणा के बाद पिछले दो दिन से मंडी को बंद करने की घोषणा की जा रही है। उनका कहना था मंडी समिति और व्यापारियों की मनमानी चल रही है। महेंद्र रघुवंशी का कहना था कि जो धान दो दिन पहले 2800 रुपये प्रति क्विंटल में खरीदी गई वहीं धान गुरूवार को 2400 रुपये क्विंटल में खरीदी। उनका आरोप था कि धान की नीलामी करने गिने-चुने ही व्यापारी थे जिसके चलते मनमानी हो रही थी। हालांकि दोपहर में 2 बजे से व्यापारियों ने नीलामी शुरू कर दी थी। किसानों का कहना था कि भाव में आंशिक सुधार था।

नहीं होगी धान की नीलामी

भले ही किसानों ने दो घंटे तक चक्काजाम किया हो, लेकिन मौसम को देखते हुए मंडी समिति और व्यापारियों ने फिलहाल धान खरीदी से साफ इंकार कर दिया है। मंडी सचिव कमल बगवैया ने बताया कि दोपहर बाद अधिकांश ट्रालियों की नीलामी करा दी गई थी। भाव से असंतुष्ट करीब 50 किसान बचे थे उन्हें भी मौसम खराब होने की बात कहते हुए समझाया तो वह भी अपनी उपज वापस ले गए। शुक्रवार को मंडी में धान छोड़ सभी जिंसों की नीलामी होगी। इसके बाद शनिवार-रविवार को अवकाश रहेगा। उन्होंने बताया कि किसानों ने जो कम भाव का आरोप लगाया तो भाव ऊपर से ही तय होते हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local