रमजान में पानी की किल्लत, परेशान रहवासी

-निजी ट्यूबबैलों से पानी लाने को लोग मजबूर

फोटो-16

मुरवास। खेतों में लगे ट्यूबबैल बने क्षेत्र के लोगों का सहारा।

मुरवास। नवदुनिया न्यूज

मुरवास क्षेत्र में इन दिनों पानी की किल्लत से रहवासी परेशान हैं। क्षेत्र में नल पूरी तरह से खराब हो गए हैं। स्थानीय प्रशासन ने भी पानी की समस्या से निपटने के लिए नलजल पाइप लाइन बिछाने का काम किया लेकिन वह भी अधूरा पड़ा है। कुछ खेत में बने ट्यूबबैलों से पानी लाकर इन दिनों काम चला रहे हैं। मालूम हो कि क्षेत्र में 6 हजार लोगों की आबादी पर अभी तक 8 हैंडपंप में से केवल चार ही काम कर रहे हैं। उन पर भी सुबह से शाम तक पानी भरने वालों की कतार लगी रहती है। वहीं रमजान शुरु होते ही क्षेत्र में पानी की समस्या बढ़ जाएगी। नलजल योजना में पाइप-लाइन बिछाने वाले ठेकेदारों की लापरवाही का नतीजा रहा कि पूरे क्षेत्र में अभीतक पाइप लाइन नहीं बिछ सकी। यदि काम समय पर हो जाता तो आज पानी की समस्या यहां नहीं रहती। इस संबंध में अय्यूब चाचा और जमील किराना ने कहा कि रमजान शुरु हो गए हैं। पानी कहं से लाएं। अभी भी तो चार-पांच मोहल्ले बचे हैं यहां पर पानी की लाइन नहीं डाली गई हैं।

एसएटीआई परिसर में बनाया है स्ट्रांगरूम, साम्रगी होगी जमा

विदिशा। नवदुनिया प्रतिनिधि

लोकसभा निर्वाचन में मतदान के बाद स्ट्रांगरूम जो एसएटीआई इंजीनियरिंग कॉलेज परिसर में बनाया गया है। यहां कक्ष में जमा की जाने वाली सामग्री के संबंध में सभी मतदान दलों के अधिकारियों के साथ-साथ पीठासीन अधिकारी व सेक्टर आफीसरो को प्रशिक्षण अवधि के दौरान भलीभांति रूप से अवगत कराया गया है। उप जिला निर्वाचन अधिकारी लोकेन्द्र सरल ने बताया कि विधानसभावार स्ट्रांगरूम में बनाया है। प्रत्येक विधानसभा के स्ट्रांगरूमों में मतदान केन्द्रों पर उपयोग की गई बीयू, सीयू, व्हीव्हीपैट के अलावा मतपत्र लेखा विथ सीयू के अलावा मॉकपोल की पर्चियां काला लिफाफा डिब्बा सहित तथा पीठासीन अधिकारी द्वारा मतदान प्रारंभ एवं मतदान समाप्ति के दौरान किया जाने वाला घोषणा पत्र, लिफाफा सहित सामग्री स्ट्रांगरूम में जमा कराई जाएगी।

आज नहीं होगी टीएल बैठक

विदिशा। अपर कलेक्टर वृदांवन सिंह ने बताया कि सोमवार को आयोजित होने वाली टीएल बैठक अपरिहार्य कारणों से स्थगित कर दी गई है। उन्होंने निर्वाचन कार्यो को सम्पादित कराने वाले सेक्टर आफीसर एवं एआरओ के द्वारा कमीशनिंग संबंधी कार्य यथावत सोमवार को जारी रख पूर्ण कराने के निर्देश दिए हैं।

वोटर हेल्पलाइन नम्बर 1950 कर सकते हैं शिकायत

विदिशा। निर्वाचन आयोग द्वारा मतदाताओं की सुविधा के लिए वोटर हेल्पलाइन नंबर 1950 जारी किया है। वोटर हेल्पलाइन नम्बर 1950 पर फोन लगाकर मतदाता अपने एपिक की जानकारी, मतदान केंद्र, बीएलओ आदि की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त वोटर हेल्पलाइन एप डाउनलोड कर भी इस संबंध में जानकारी प्राप्त की जा सकती है। इसी प्रकार किसी व्यक्ति को यदि अपना ईपिक नम्बर याद है तो वह 1950 नम्बर पर अपना ईपिक नम्बर एसएमएस कर जानकारी ले सकता है। भारत निर्वाचन आयोग का नेशनल वोटर सर्विस पोर्टल एनव्हीएसपी भी मतदाताओं के लिए अत्यन्त उपयोगी है। इस एप के माध्यम से मतदाता सूची में अपना नाम कोई भी व्यक्ति ढूंढ सकता है।

सोशल मीडिया एकाउंट से पोस्ट डालने पर प्रत्याशी को पूर्व प्रमाणीकरण जरूरी नहीं

विदिशा। निर्वाचन आयोग द्वारा निर्धारित मार्गदर्शी सिद्धांत के अनुसार लोस निर्वाचन में चुनाव प्रचार के लिए प्रत्याशी स्वयं के सोशल मीडिया अकाउंट से कोई राजनैतिक पोस्ट करता है तो वह राजनैतिक विज्ञापन की श्रेणी में नहीं मानी जाएगी तथा उसका पूर्व प्रमाणीकरण आवश्यक नहीं होगा किन्तु ई-पेपर में जारी किए जाने वाले राजनैतिक विज्ञापनों का पूर्व प्रमाणीकरण निर्धारित समिति से कराना अनिवार्य होगा। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने कहा है कि उक्त प्रावधान के बावजूद प्रत्याशी को सोशल मीडिया पर की जाने वाली पोस्ट के संदर्भ में आदर्श आचरण संहिता तथा संबंधित कानूनों का अनुपालन सुनिश्चित करना होगा।

मतदान केन्द्रों पर लगाए जाएंगे मॉकपोल की जानकारी वाले पोस्टर

विदिशा। निर्वाचन आयोग द्वारा लोकसभा निर्वाचन के दौरान प्रत्येक मतदान केन्द्र के बाहर मतदाताओं एवं राजनैतिक दलों एवं अभ्यर्थियों के पोलिंग एजेंट को मॉकपोल संबंधी जानकारी प्रदाय करने के लिए पोस्टर लगाने के निर्देश दिए गए हैं। ईवीएम के माध्यम से मतदान प्रक्रिया प्रारंभ करने के पूर्व उसमें मॉकपोल कराया जाता है तथा मॉकपोल के पश्चात् मशीन को पुन? मतदान के लिए तैयार किया जाता है। इस दौरान 6 चरणों की कार्यवाही संपादित की जाती है। इन चरणों में मॉकपोल यानि दिखावटी मतदान के दौरान आयोग द्वारा निर्धारित संख्या में वोट डालने के बाद क्लोज बटन दबाया जाता है। रिजल्ट बटन दबाकर परिणाम प्राप्त किया जाता है। यह सुनिश्चित किया जाता है कि प्रत्येक उम्मीदवार के लिए ईवीएम मशीन से प्राप्त परिणाम का वीवीपैट की पर्चियों से मिलान हो, कंट्रोल यूनिट से मॉकपोल डाटा हटाने के लिए क्लियर बटन दबाया जाता है। वीवीपैट के ड्रॉप बॉक्स से पर्चियां बाहर निकालकर उन पर्चियों के पीछे मॉकपोल स्लीप की सील लगाई जाती है तथा टोटल का बटन दबाकर पोलिंग एजेंट को बताया जाता है कि अब कंट्रोल यूनिट में कोई भी वोट नहीं है। इसी तरह वीवीपैट के ड्रॉप बॉक्स को खोलकर दिखाया जाता है कि उसमें भी कोई भी पर्ची नहीं है। ईवीएम, वीवीपैट मशीन की विश्वसनीयता एवं राजनैतिक दलों तथा अभ्यर्थियों के बीच विश्वास सृजन करने की दृष्टि से इस लोस निर्वाचन के दौरान प्रत्येक मतदान केन्द्र के बाहर इन 6 चरणों की जानकारी प्रदाय करने के आशय से पोस्टर लगाए जाएंगे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local