राजेंद्र शर्मा, विदिशा। Pitru Paksha Shraddh 2020 त्रेतायुग में भगवान श्रीराम, माता सीता और अनुज लक्ष्मण के साथ अत्रि ऋषि के कहने पर विदिशा पहुंचे थे और यहां पर उन्होंने पंच ऋषियों के आचार्यत्व में अपने पिता चक्रवर्ती सम्राट रहे दशरथ का श्राद्ध किया था। इस बात का उल्लेख वृहद पुष्कर महात्म्य नामक ग्रंथ में मिलता है। धार्मिक मामलों के जानकार भी इस बात की पुष्टि करते हैं। मप्र प्रांतीय पुजारी महासभा के अध्यक्ष संजय पुरोहित बताते हैं कि वृहद पुष्कर महात्म्य के 21 वे अध्याय में जब वेदव्यास के पुत्र सूतजी से ऋषियों ने पूछा कि श्रीराम ने कहां-कहां श्राद्ध किया। तब उन्होंने बताया कि श्रीराम भार्या सीता और अनुज लक्ष्‌मण के साथ चित्रकूट से चलकर अत्रि ऋषि के आश्रम पर पहुंचे और उन्होंने पिता का तर्पण करने के लिए पुण्य क्षेत्रों की जानकारी ली।

तब मुनि ने उन्हें बताया कि विदिशा में पिता (ब्रम्हा) द्वारा निर्मित एक उत्तम और सब फल प्राप्ति देने वाला तीर्थ है। जहां प्रसिद्ध दो मर्यादा पर्वत हैं। वहां पिंडदान करने से निश्चित ही पितृ तृप्त होते हैं। सूत जी के वचन सुनकर भगवान श्रीराम सीता और अनुज लक्ष्‌मण के साथ ऋक्षवान पर्वत वर्तमान में(लुहांगी पहाड़ी) विदिशा नगरी और चमकती नदी(बेतवा) को पार करके यज्ञ पर्वत(ऐतिहासिक पर्यटन स्थल उदयगिरि पहाड़ी) के पास पहुंचे। जहां मार्कण्डेय ऋषि का आश्रम था। वहां ऋषिवर से पिता के लिए पिंडदान करने की बात कही। तब ऋषि के कहने पर दूसरे दिन जमदग्नि, भारद्वाज, लोमश, देवरात और शमिक्ति ऋषियों एवं मुनियों द्वारा राजा दशरथ का विधि-विधान से चरणतीर्थ घाट पर श्राद्ध कराया था।

चरणतीर्थ पर स्थित है मार्कडेण्य ऋषि की प्रतिमा

बेतवा के चरणतीर्थ घाट स्थित शिवालय के मुख्य द्वार पर मार्कडेण्य ऋषि की प्रतिमा स्थापित है। संजय पुरोहित बताते हैं कि लंका पर विजय प्राप्त करने के बाद भगवान स्व. दशरथ जी का श्राद्ध करने के लिए एक माह तक पुष्कर तीर्थ में रूके थे। उसी दौरान वह विदिशा पहुंचे और चरणतीर्थ घाट पर श्राद्ध किया। उन्होंने बताया कि वृहद पुष्कर महात्म्य में जो चमचमाती नदी बताई गई है वह बेतवा है। बेतवा में सल्फर की मात्रा अधिक होने के कारण वह चमचमाती थी। बताते हैं कि यहां स्नान करने से चर्म रोग भी ठीक हो जाते थे।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020