विदिशा/मुरवास(नवदुनिया प्रतिनिधि)।

लटेरी में वन विभाग की फायरिंग में मारे गए आदिवासी युवक की मौत के बाद अब जिले में राजनीति गरमा गई है। राजनीतिक दल आदिवासियों के हितैषी बन लगातार गांव का दौरा कर रहे हैं। घटना के बाद से मृतक के परिवार से मिलने नेताओं का रैला पहुंच रहा है। शुक्रवार की देर शाम प्रदेश के वन मंत्री विजय शाह पीड़ित परिवार के घर पहुंचकर मुलाकात की तो वहीं शनिवार को युवक कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष विक्रांत भूरिया ने परिवार से मिलकर भाजपा सरकार को आड़े हाथों लिया।

9 अगस्त को लटेरी तहसील के ग्राम खटियापुरा में वन कर्मी एवं आदिवासियों के बीच हुई मुठभेड़ में चैनसिंह नाम के युवक की मौत हो गई थी वहीं चार घायलों का इलाज मेडिकल कालेज में हो रहा है। घटना के बाद सरकार इस मामले को बेहद गंभीरता से ले रही है। शुक्रवार को सरकार की तरफ से वन मंत्री विजय शाह गांव पहुंचे। वर्षा के बीच भीगते हुए मंत्री ने मृतक के घर के बाहर दहलान में बैठकर परिवारजनों से बातचीत कर ढांढस बंधाने की कोशिश की। परिवार को हर संभवन मदद का भरोसा दिया। इस दौरान बताया कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा लटेरी में घटित घटना में मृतक के परिजन को 25 लाख रुपए एवं प्रत्येक घायल को क्रमशः पांच-पांच लाख की आर्थिक मदद दिलाएं जाने की घोषणा की थी। जिसके बाद जिला प्रशासन द्वारा सहायता राशि के चेक संबंधितों को दे दिए हैं। यहां कुछ समय रुककर वन मंत्री वापस चले गए। उनके साथ वन विभाग के आला अधिकारी और लटेरी तहसीलदार अयज शर्मा भी मौजूद थे।

विक्रांत भूरिया ने साधा भाजपा पर निशाना

शनिवार को युवक कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष विक्रांत भूरिया भी लटेरी पहुंचे जहां उन्होंने पीड़ित परिवार से मुलाकात कर मृतक को शहीद का दर्जा देने की मांग दोहराई। इस घटना को लेकर उन्होंने भाजपा सरकार पर जमकर निशाना साधा। भूरिया ने कहा कि आदिवासी युवक की मौत सरकारी गोली से हुई है। भूरिया ने परिवार को हर संभव मदद दिलाने का आश्वासन दिया। इससे पहले वे लटेरी रेस्ट हाउस में पहुुंचे जहां सुनील कुमार आदिवासी, युवा कांग्रेस विधानसभा अध्यक्ष असगर खान, सरपंच उमर चौधरी आदि मौजूद थे। भूरिया ने विदिशा पहुंचकर मेडिकल कालेज में भर्ती अन्य घायल आदिवासियों से भी मुलाकात की। यहां विक्रांत ने कहा कि प्रदेश सरकार कितना आदिवासी हितैषी इससे पता चलता है की घटना होने के बावजूद सीएम ने अभी तक पीड़ित परिवार से नहीं मिले। आदिवासी दिवस के दिन आदिवासियों पर सरकारी गोली चली, इससे भाजपा सरकार की आदिवासी विरोधी मानसिकता उजागर हो गई है। इस दौरान विदिशा विधायक शशांक भार्गव, युकां जिलाध्यक्ष वैभव भारद्वाज, ब्लाक अध्यक्ष अजय कटारे सहित कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

लकड़ी चोरों का दो माह पुराना वीडियो वायरल

इधर घटना के बाद से ही वन विभाग की तरफ से मृतक व घायलों को लकड़ी चोरी का आरोपित बताया जा रहा है। इस संबंध में लकड़ी चोरों का एक वीडियो भी वायरल हुआ। वीडियो में दिख रहा है कि एक के बाद एक बाइक पर कुछ लोग कीमती लकड़ियां लेकर जा रहे हैं। लोगों के चेहरे ढके हुए हैं कुछ बाइक बिना नंबर की हैं। दावा किया जा रहा है कि वीडिया दो माह पुराना लटेरी के जंगलों का है। जहां आए दिन वन माफिया सागौन की लकड़ियों को काटकर उन्हें दूसरे राज्यों में सप्लाई करते हैं। वन माफिया इसके लिए स्थानीय आदिवासियों को लालच देकर उनसे गैर कानूनी काम कराते हैं। वहीं दूसरी तरफ वन विभाग का कर्मचारी संगठन वन कर्मचारियों पर हो रही पुलिस कार्रवाई का लगातार विरोध कर रहा है। कर्मचारियों का कहना है कि ऐसे हालातों में तो काम करना मुश्किल हो जाएगा।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close