क्रॉसर-बिलों में आई अधिक राशि को कम कराने विभाग में लगने लगी भीड़

गंजबासौदा पिछले कुछ महीनों से शहर की आम जनता चाहे गरीब परिवार हो या मध्यम परिवार सभी के घरों के बिजली के बिल ज्यादा राशि के आ रहे हैं। बिलों की राशि अधिक आने से सबसे ज्यादा परेशानी उन गरीब परिवार को हो रही है जिन्हें विधानसभा चुनाव से पहले प्रदेश की पूर्व सरकार की संबल योजना के तहत लाभ मिलता था और विधानसभा चुनाव होने के बाद उक्त योजना में परिवर्तन होने के बाद भी आम लोगों को योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है। अब दोबारा से गरीबों के अधिक बिजली के बिल आना शुरू हो गए। अक्टूबर महीने में कई लोगों के बिल हजारों के ऊपर आए हैं, जिससे गरीब उपभोक्ता परेशान हैं। अक्टूबर महीने में आए बिजली के बिलों को देखकर गरीबों को दिवाली के त्योहार के पहले बिलों को देखकर झटका लग रहा है। मंगलवार को बिजली विभाग के ऑफिस में कई लोग अधिकारियों के पास बिजली के बिलों में आई अधिक राशि की शिकायत को लेकर दफ्तर पहुंचे। इस दौरान काफी भीड़ देखने को मिली।

मालूम हो कि विधानसभा चुनाव से पहले प्रदेश की पूर्व भाजपा सरकार ने गरीब लोगों को संबल योजना शुरु की थी। इस योजना का लाभ की कई लोगों को मिला। जब यह योजना शुरु हुई थी तो प्रदेश की पूर्व सरकार ने कई गरीबों के बिजली के बिलों की बाकी राशि माफ करते हुए सस्ते दाम में बिजली दी, जिसका लाभ कई लोगों ने कुछ महीनों तक उठाया। लेकिन जब से नई कांग्रेस सरकार प्रदेश में आई, तब से लोगों के बिजली के बिलों की राशि कम होने की जगह बढ़ती ही जा रही है। बिजली के बिल देखकर उपभोक्ता हैरान हो रहे हैं। जबकि प्रदेश की वर्तमान सरकार ने भी गरीबों को सस्ती बिजली और राहत देने की योजना बनाई है लेकिन सरकार को काम करते हुए करीब 9 महीने का समय गुजर गया है, लेकिन आम लोगों को योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है।

बॉक्स

इस महीने मिलना था लाभ, लेकिन नहीं मिला

जानकारी के अनुसार प्रदेश सरकार द्वारा योजना में जो संशोधन किया गया था उसके तहत अक्टूबर महीने में लोगों को योजना का लाभ मिलना था, लेकिन नहीं मिला। बताया जाता है कि बिजली विभाग के अनुसार योजना में संशोधन के बाद सॉफ्टवेयर अपडेट होना था और अक्टूबर महीने से ही लोगों को योजना का लाभ मिलना था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

बॉक्स

किसी का तीन हजार तो किसी का नौ हजार आया बिल

मंगलवार को जयस्तंभ चौराहे स्थित बिजली कंपनी के ऑफिस में कई लोग सुबह से अपने बिलों को सुधरवाने के लिए अधिकारियों के पास पहुंचे। इस दौरान कई लोगों को निराश होकर वापस लौटना पड़ा। इस दौरान ऑफिस में मौजूद उपभोक्ता असलम खान ने बताया कि अक्टूबर महीने में उनके घर का बिजली का बिल 3081 रूपए का आया है। उनका कहना था कि पहले जहां बिजली का बिल 200 रूपए से अधिक नहीं आता था, लेकिन अब तो 2 हजार के नीचे नहीं आता। वहीं दयाराम सेन ने बताया कि उनके घर का बिजली का बिल इस महीने 9078 रुपए आया है। वहीं मुकेश नामदेव का बिल 3955 रूपए,आरिफ खान का 7000 ,रमेश कुमार प्रजापति का 7596 रुपए का बिल आया है। सभी परेशान उपभोक्ता मंगलवार को बिजली विभाग के ऑफिस बिलों में आई राशि को ठीक कराने के लिए पहुंचे थे।

गंजबासौदा-फोटो01

गंजबासौदा- बिजली के बिलों में राशि अधिक आने पर सुधार कराने विभाग में लगी भीड़।

000000000000000000000000000000

आर्मी भर्ती के लिए आधार कार्ड अपडेट कराने परेशान हुए युवा

मंगलवार को थी आवदेन जमा करने की अंतिम तारीख

गंजबासौदा। आर्मी भर्ती के लिए कई युवा काफी दिनों से तैयारी कर रहे है थे। आर्मी की भर्ती की अंतिम तारीख मंगलवार को होने के चलते कई युवा आधार कार्ड अपडेट कराने के लिए परेशान हुए और सीधे एसडीएम प्रकाश नायक के पास जा पहुंचे। जहां पर एसडीएम ने ऑपरेटर को निर्देश दिए कि सबसे पहले युवाओं को आधार कार्ड अपडेट करें।

मंगलवार को कई युवा एसडीएम प्रकाश नायक के पास पहुंचे अरूण खंगार निवासी लाल पठार,शिवम दांगी, शिवम रघुवंशी,सुनील विश्वकर्मा ने एसडीएम से कहा कि आज आर्मी भर्ती की अंतिम दिनांक है और हम लोगों के आधार कार्ड अपडेट नहीं हुए, जिससे हम लोग आर्मी भर्ती का फार्म जमा नहीं कर पा रहे हैं। युवाओं की बात सुनकर एसडीएम प्रकाश नायक ने तुरंत आधार कार्ड केंद्र के ऑपरेटर विक्रम सिंह को निर्देश दिए कि इन युवाओं को आधार कार्ड पहले अपडेट करों।

मालूम हो कि पिछले कई दिनों से शहर के युवा आर्मी भर्ती के लिए तैयारी कर रहे हैं और आर्मी भर्ती के लिए आवेदन करने की अंतिम तिथि मंगलवार को थी। बताया जाता है कि आर्मी के लिए आवेदन करने के लिए युवाओं को अपने आधार कार्ड अपडेट कराना जरूरी था। और बड़ी संख्या में युवा आधार कार्ड केंद्र पहुंचकर अपने आधार कार्ड अपडेट कराने पहुंच रहे हैं। लेकिन इन लोगों को काफी परेशानी हो रही है। बताया जाता है कि शहर में केवल एक ही आधार कार्ड सेंटर बीएसएनएल ऑफिस के पास संचालित हो रहा है, इससे पहले नगर पालिका और तहसील में भी आधार कार्ड अपडेट के लिए केंद्र बनाया गया था लेकिन उन केंद्रों को बंद कर दिया गया है। शहर में केवल एक ही आधार कार्ड केंद्र है, जहां पर आधार कार्ड से संबंधित काम होता है। इस केंद्र पर भी केवल एक ऑपरेटर और सिस्टम है। कंप्यूटर ऑपरेटर विक्रम सिंह द्वारा लोगों के आधार कार्ड में सुधार किया जा रहा है। एक सेंटर होने की वजह से और लोगों की संख्या अधिक होने से सेंटर पर काम करने वाले कर्मचारियों को भी परेशानी हो रही है। वहीं जो लोग आधार कार्ड अपडेट कराने के लिए केंद्र पर पहुंच रहे हैं उन्हें घंटों लाइन में लगना पड़ता है। बताया जाता है कि कई लोगों के आधार कार्ड अपडेट होने में या किसी प्रकार के सुधार होने में 2 से 3 दिन का समय लगता है कभी-कभी तो नेटवर्क की समस्या होने के चलते लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है

गंजबासौदा-फोटो02

गंजबासौदा- आधार कार्ड अपडेट कराने की मांग को लेकर युवा पहुंचे एसडीएम के पास।

00000000000000000000000000000000000

रंगोली व दीया सजाओ प्रतियोगिता हुई

गंजबासौदा। बैहलोट स्थित निजी स्कूल में रंगोली और दीया बनाकर सजाने की प्रतियोगिता का आयोजन मंगलवार को किया गया। जिसमें स्कूल के बच्चों ने बढ़ चढ़कर भाग लेते हुए अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया। दोनों प्रतियोगिताओं में सब जूनियर कक्षा 1 से 3 जूनियर,कक्षा 4 से 7 सीनियर ,कक्षा 8 से 10 तक के विद्यार्थी शामिल हुए। रंगोली प्रतियागिता में 45 एवं दीया सजाने में 56 छात्र-छात्राओं ने भाग लिया। बच्चों के द्वारा तैयार की गई रंगोली में श्री गणेश स्वास्तिक, मौर ,बतख, महात्मा गांधी, महालक्ष्मी जी, स्वच्छता एवं पर्यावरण पर आधारित पक्षियों एवं पेड़ों के प्रतिक चिन्ह सनराइज, मालवी ,संस्कृति पर आधारित रंगोलिया बनाई गई। साथ ही बच्चों ने विभिन्ना सामग्रियों मिट्टी गोबर, थर्माकोल, वॉल काच,माचिस की तीलियां सितारे, आंटी ,दाल,चावल, रूई, बांस की चम्मचें,चूना तथा विभिन्ना प्राकृतिक रंगों से दीयो को बनाकर सजाया गया था।

निर्णायक मंडल में अनीता विश्वकर्मा, नेहा राजपूत, सुरभि जैन, शिखा छिव्वर ने दीया सजाओ में सव जूनियर से दर्ष लाड को प्रथम,रूद्रप्रताप द्वितीय, संजना तृतीय, जूनियर से तनिष्का प्रथम, विकास द्वितीय ,पलक तृतीय, सीनियर से शिवनंदन प्रथम, स्नेहा द्वितीय, सामी अली ने तृतीय पुरस्कार प्राप्त किया। रंगोली प्रतियोगिता में निर्णायक मंडल में रितु कुशवाह,दीक्षा राजपूत,स्वेता दांगी, लक्ष्मी केवट ने सब जूनियर में कनिष्का को प्रथम ,वंषिता द्वितीय,दर्शी तृतीय, जूनियर से श्रद्वा प्रथम, द्वितीय देविका और महक तृतीय, सीनियर वर्ग से सामीअली प्रथम स्नेहा द्वितीय,स्वीटी तृतीय पुरस्कार प्राप्त किया। इस अवसर पर वंदे मातरम शिक्षा समिति की सचिव इंदू लाड़ एवं संचालक रूपेश कुमार लाड़ ने बच्चों को पुरस्कार दिए। इस दौरान पटाखों से दूर रहकर पर्यावरण को बचाने की अपील की।

गंजबासौदा-फोटो03

गंजबासौदा-प्रतियोगिता के दौरान रंगोली बनाती छात्राएं।

0000000000000000000000000000000000

व्यापार महासंघ नहीं दिखा सका गरीबों के लिए नेकी

क्रॉसर- नेकी की दीवार के टिनशेड में संचालित होने लगी हैं दुकानें

गंजबासौदा। करीब एक साल पहले व्यापार महासंघ द्वारा गरीबों को सर्दी व गर्मी में आम लोगों के घरों से मिलने वाले कपड़े और जो कई लोगों के घरों में अनउपयोगी वस्तुओं का गरीबों को आसानी से उपलब्ध हो, इसके लिए लाल परेड ग्राउंड के किनारे एक टिन शेड बनाया गया था। उक्त टिन शेड के नीचे बनी दीवार को नेकी की दीवार का नाम दिया गया था। लेकिन वर्तमान समय में उक्त दीवार का उपयोग कुछ लोग टिन शेड में दुकान लगाकर कर रहे हैं। कुल मिलाकर व्यापार महासंघ की यह नेकी की दीवार गरीबों लोगों की नेकी करने में असफल सबित हो रही है।

ज्ञात हो कि व्यापार महासंघ द्वारा 1 साल पूर्व गरीबों को कपड़े,ऊनी वस्त्र,बर्तन सहित अन्य सामग्री उपलब्ध कराने के लिए लाल परेड ग्राउंड के किनारे नेकी की दीवार चालू की गई थी। उस समय नागरिक अपने पुराने कपड़े,बर्तन,मोजे,शॉल इत्यादि इस नेकी की दीवार में रखकर चले जाते थे और इन सामग्री को गरीब एवं असहाय लोग अपनी जरूरत के हिसाब से उठा ले जाते थे। लेकिन व्यापार महासंघ द्वारा इस नेकी की दीवार के संचालन की ओर कोई ध्यान नहीं दिया गया और अब इस नेकी की दीवार में निजी दुकान संचालित होने लगी है।

बॉक्स

विदिशा के विकास से सीख लेने की जरूरत

इधर दूसरी ओर अब लगने लगा है कि व्यापार महासंघ को विदिशा के समाजसेवी विकास पचौरी से सीख लेने की जरूरत है। वह कई सालों से निशुल्क शव वाहन का संचालन कर रहे हैं। इसके अलावा गरीबों एवं असहाय की मदद के लिए वह हमेशा तत्पर रहते हैं। यही नहीं जब भी कोई लावारिस शव मिलता है तो वह स्वयं आगे आकर उसका दाह संस्कार कराने में भी नहीं चूकते। सरकारी या फिर अन्य कोई मदद की आस लगाए बिना वह हमेशा समाजसेवा के कार्य में निरंतर लगे हुए हैं।

गंजबासौदा-फोटो04

गंजबासौदा- नेकी की दीवार के शेड के नीचे इस तरह लगने लगी दुकान।

Posted By: Nai Dunia News Network