विदिशा। शहर के मध्य स्थित विजय मंदिर में वर्षों से बंद मूर्ति संग्रहण कक्ष को अब पर्यटकों के लिए खोल दिया गया है। आठवीं शताब्दी की यह मूर्तियां भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग को विजय मंदिर की खुदाई के दौरान मिली थी, तब से यह प्रतिमा यहां दो अलग-अलग कमरों में बंद करके रख दी गईं थी। इनमें ज्यादातर हिंदू देवी देवताओं की प्रतिमा हैं। 30 अक्टूबर को केंद्रीय पर्यटन एवं संस्कृति राज्य मंत्री प्रहलाद पटेल इसका उद्घाटन करेंगे। सुबह 11:30 बजे केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल विजय मंदिर के मूर्ति संग्रह कक्ष के साथ-साथ उदयगिरि में हुए निर्माण कार्यों का भी लोकार्पण करेंगे। उद्घाटन के साथ ही विजय मंदिर के मूर्ति संग्रहण कक्ष को पर्यटकों के लिए खोल दिया जाएगा। 2 माह पहले अगस्त में केंद्रीय मंत्री पटेल विदिशा आए थे तब उन्होंने इन कक्षों को पर्यटकों के लिए खोलने के निर्देश दिए थे। पुरातत्व विभाग के सहायक संरक्षण अधिकारी संदीप महतो ने बताया मूर्ति संग्रहण कक्ष में 100 अलग-अलग प्रकार की मूर्तियां हैं जो वर्षों पहले यहां खुदाई के दौरान मिली थी। तब से यह ताले में बंद थी लेकिन अब इन्हें पर्यटकों के लिए खोल दिया है। यहां इनके इतिहास के बारे में लिखित में पूरी जानकारी भी दी गई है। पर्यटकों को किसी प्रकार का शुल्क नहीं लगाया गया है।

चौथी शताब्दी की प्रतिमाओं का क्षरण रोकने बनाए शेड

केंद्रीय पर्यटन एवं संस्कृति राज्य मंत्री प्रहलाद पटेल शुक्रवार को उदयगिरि में हुए विभिन्न निर्माण कार्यों का भी लोकार्पण करेंगे। करीब चौथी शताब्दी की नृसिंह भगवान और विष्णु भगवान की लेटी हुई प्रतिमा का क्षरण रोकने के लिए करीब 25 लाख रुपये की लागत से शेड का निर्माण कराया गया है। उदयगिरि पहाड़ी पर विष्णु भगवान की लेटी हुई विशाल प्रतिमा है जो लोहे की जालियों से कवर थी, इन जालियों को हटाकर चारों तरफ कांच लगा दिया गया है, ताकि पर्यटकों को फोटो खींचने में किसी प्रकार की परेशानी ना हो।

Posted By: Ravindra Soni

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस