पड़ोसी की हत्या करने वाले पिता पुत्र और मां को आजीवन कारावास

पिछले साल जून की घटना, बेल पत्ती फैलने पर हुआ था पड़ोसियों में विवाद

विदिशा। नवदुनिया प्रतिनिधि

पड़ोसी की कुल्हाड़ी मारकर हत्या करने के मामले में पिता, पुत्र और मां को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है। सत्र न्यायाधीश श्री श्यामाचरण उपाध्याय द्वारा आरोपितों को दोषी पाते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। लोक अभियोजक कालूराम मैना ने बताया कि घटना 14 जून 2018 को हैदरगढ़ थाना क्षेत्र के ग्राम हरहरखेड़ी की है। यहां रहने वाले महेश लोधी अपने घर में पानी से तराई कर रहे थे। उनकी बेटी संध्या बाहर थी। तभी पुरुषोत्तम लोधी अपने ही घर के दरवाजे पर खड़े होकर महेश को गालियां देने लगे। पुरुषोत्तम ने कहा कि मेरे घर पर बेल पत्ती क्यों फैलाई गई। महेश लोधी ने कहा कि उसने बेल पत्ती नहीं फैलाई पेड़ से उड़कर चली गई होगी। लेकिन इतने में ही पुरुषोत्तम का बेटा अनंत सिंह कुल्हाड़ी लेकर घर में घुस गया। उसने कुल्हाड़ी महेश लोधी की गर्दन में मार दी। इसके बाद पुरुषोत्तम और उसकी पत्नी लीलाबाई भी वहां आ गए। पुरुषोत्तम ने डंडे से और लीलाबाई ने ईंट से घायल पड़े महेश पर दे मारे। इसकेबाद महेश लोधी की मौत हो गई।

लोक अभियोजक कालूराम मैना ने बताया कि ये पूरी घटना मृतक महेश की पुत्री संध्या ने देखी थी। उसकी शिकायत पर ही तीनों आरोपितों पर हैदरगढ़ थाने में केस दर्ज किया था। न्यायालय में अभियोजन द्वारा प्रस्तुत गवाहों और सबूतों के आधार पर न्यायालय ने आरोपितों पुरुषोत्तम उसकी पत्नी लीलाबाई और उनके पुत्र अनंत सिंह को धारा 302 के मामले में आजीवन कारावास और 500 रुपए अर्थदंड से दंडित किया है। वहीं धारा 499 में दस वर्ष की सजा और 500 रुपए जुर्माना लगाया है।

मुआवजा नहीं मिला, बिजली के बिल भी हजारों में आए

फोटो नंबर 3

विदिशा। बंटीनगर क्षेत्र में महिलाएं बिजली के बिल दिखाती हुईं।

विदिशा। नवदुनिया प्रतिनिधि

बंटीनगर, सागर पुलिया क्षेत्र के कई बाढ़ पीड़ितों को इस माह हजारों के बिजली के बिल मिले हैं। अंडरब्रिज के पास रहने वाले गरीबों के घरों में हजारों रुपए के बिल देख लोग परेशान हैं। यहां कई घरों में दो हजार से लेकर दस हजार रुपए तक बिल आए हैं। लोगों का कहना है कि एक तो बाढ़ में पहले से ही उनके घरों को काफी नुकसान हुआ है उसका मुआवजा आज तक नहीं मिला ऊपर से बिजली के हजारों रुपए के बिल घरों में पहुंच रहे हैं कैसे भरेंगे।

बंटीनगर, अंडरब्रिज के पास रहने वाली रूपवती अहिरवार ने बताया कि उन्हें अब तक मुआवजा नहीं मिला है। बस्ती के कुछ लोगों के खातों में पैसे आ गए लेकिन कई लोग हैं जो आज भी मुआवजा का इंतजार कर रहे हैं। बिजली का बिल भी 1300 रुपए आया है। मायाबाई ने बताया कि उन्हें 5 हजार रुपए मुआवजा मिला है लेकिन बिजली का बिल 5894 रुपए है ऐसे में मुआवजे की राशि पूरी बिजली के बिल में ही जमा हो जाएगी। इसी तरह श्यामलाल अहिरवार के यहां 8336 रुपए बिल पहुंचा है। चंदाबाई ने बताया कि पिछले दो माह से बारिश के कारण घरों में पानी भरा रहा ऐसे में न तो मजदूरी मिली न कहीं काम कर पाए। मुआवजा भी नहीं मिला अब बिल की इतनी अधिक राशि कहां से जमा करें। यदि राशि जमा नहीं की तो बिजली कनेक्शन कटने का डर सता रहा है। अंडरब्रिज के पास रहने वाले रघुनाथ सिंह राजपूत के यहां 2712 रुपए का बिल आया है। रघुनाथ सिंह भी बिजली के अधिक बिलों से परेशान हैं। उनका कहना है कि उन्हें अब तक मुआवजा भी नहीं मिला। शासन उनके बिजली के बिल माफ करे और जल्द मुआवजा दे। एसडीएम प्रवीण प्रजापति ने बताया कि यहां करीब डेढ़ सौ लोग हैं जिन्हें मुआवजा अब तक नहीं मिला है। मुआवजे के बिल लगाने में देरी पर पटवारी से भी जवाब लिया है। बिल लगा दिए हैं जल्द ही मुआवजा वितरण हो जाएगा।

योजना के तहत मिले हैं बिल

यहां कई घरों में बिजली के बिल इंदिरा गृह ज्योति योजना के तहत मिले हैं। लेकिन बारिश के कारण पिछले दो माह से बिजली का बिल नहीं भरने से राशि ज्यादा हो गई। ऐसे में लोगों को पहले पिछला बकाया भरना होगा तब जाकर उन्हें इस योजना का फायदा मिल सकेगा। बिजली कंपनी के उप महाप्रबंधक अवधेश त्रिपाठी ने बताया कि उपभोक्ता को पिछला बकाया बिल भरना होगा इसके बाद ही इंदिरा गृह ज्योति योजना के तहत उन्हें लाभ मिलेगा। उन्होंने बताया कि लोग जितनी बिजली की खपत कर रहे हैं उन्हें उतना बिल मिल रहा है। शहरी क्षेत्र में उपभोक्ताओं पर यदि 1 हजार रुपए से अधिक बिल बकाया है तो उनके बिजली कनेक्शन काटने की कार्रवाई होगी।

Posted By: Nai Dunia News Network