नीमताल में पहुंचा गंदा पानी हजारों मछलियां मरी

फोटो नंबर-9

विदिशा। तालाब में मृत अवस्था में पड़ी मछलियां।

विदिशा। शहर के नीमताल में सोमवार को अचानक हजारों मछलियों की मौत हो गई है। बताया जा रहा है कि कुछ दिनों से यहां गंदा पानी आ रहा था। जिससे मछलियों की मौत हुई है। इससे पहले भी दो बार तालाब में मछलियों की मौत हो चुकी है। सूचना मिलने पर सीएमओ सुधीरकुमार भी नीमताल पहुंचे थे। तालाब में बदबू नहीं आए इसके लिए ब्लीचिंग डाली गई है। मालुम हो कि शहर के मध्य स्थित नीमताल तालाब जहां पर शहर का सबसे सुंदर उद्यान भी है। इस माधव उद्यान में सुबह और शाम को बड़ी संख्या में लोग घूमने जाते हैं। लेकिन कुछ दिनों से तालाब में बदबू आने की लोगों द्वारा की गई शिकायत के बाद नपा ने तालाब में ब्लीचिंग डलवा दी। जिससे बदबू नहीं आए। इसके बाद भी वहां बदबू आ रही है। इधर सोमवार की सुबह अचानक बड़ी संख्या में तालाब में मछलियां मृत अवस्था में मिली हैं। मछलियों के मरने का कारण अज्ञात बताया जा रहा है। हालांकि पार्क की देखरेख करने वाले कर्मचारियों का कहना है कि आक्सीजन की कमी और आसपास का रुका हुआ पानी तालाब में मिलने के कारण मछलियों की मौत होना संभावित है। उन्होंने बताया कि दो साल पहले भी यहां पर मछलियों की मौत हुई थी। सोमवार की शाम को पूरे तालाब और उसके किनारे पर मृत अवस्था में मछलियां पडी रहीं। मंगलवार को मृत मछलियों को निकालने की बात कही जा रही है।

अमूल दूध का लिया नमूना,जांच के लिए भेजा जाएगा।

फोटो नंबर-7

विदिशा- अमूल दूध के नमूने लेती टीम

विदिशा। कुछ दिन रुकने के बाद सोमवार से एक बार फिर प्रशासन ने खाद्य सामग्री की जांच शुरू कर दी है। सोमवार को नायव तहसीलदार पारुल चौधरी और औषधि प्रशासन विभाग की निरीक्षक एडलिन पन्नाा मोहनगिरि स्थित अमूल दूध की ऐजेंसी पर पहुंची। यहां पर उन्होंने अमूल दूध के नमूने लिए।

मालुम हो कि कुछ समय पहले दूध में मिलावट का मामला सामने आने के बाद युद्वस्तर पर अभियान चलाकर शहर में रोज नमूने लिए गए थे। लेकिन कुछ दिन से अभियान बंद था। त्योहार के मद्देनजर एक बार फिर से अभियान शुरू किया है। जिसके चलते सोमवार को अमूल दूध के नमूने लिए हैं। एसडीएम प्रवीण प्रजापति का कहना है कि सोमवार को एक ही दुकान पहुंचकर नमूने लिए गए हैं। लेकिन मंगलवार से अभियान में तेजी लाई जाएगी। प्रशासन द्वारा बनाई गई टीम को सक्रियता के साथ खाद्य बस्तुओं की जांच करने के निर्देश दिए जाएंगें। खासकर त्योहार से संबंधित खाद्य बस्तुओं पर प्रशासन की नजर रहेगी।

रोजगार सहायकों की हड़ताल से मजदूरों का लाखों का रुका भुगतान

विदिशा। पिछले एक सप्ताह से रोजगार सहायकों की चल रही हड़ताल से कई तरह के काम बुरी तरह से प्रभावित हो रहे हैं। सबसे ज्यादा परेशानी मनरेगा में काम करने वाले मजदूरों को हो रही है। दीपावली का त्योहार नजदीक है लेकिन बड़ी संख्या में मजदूरों का भुगतान रुका हुआ है। अभी बुधवार तक रोजगार सहायक और हड़ताल पर रहेंगें।

रोजगार सहायक संघ के जिलाध्यक्ष संजय पचौरी ने बताया कि 23 अक्टूबर को प्रदेश भर के रोजगार सहायक भोपाल पहुंचेंगे जहां पर दांडी यात्रा निकाली जाएगी। उन्होंने बताया जिले में सभी तहसील स्तर पर धरना प्रदर्शन किया जा रहा है। कोई भी रोजगार सहायक फील्ड में नहीं है। सभी के हड़ताल पर रहने के कारण मजदूरों की लाखों रुपयों की मजदूरी का भुगतान रुका हुआ है। उन्होंने बताया कि भुगतान नहीं होने के कारण मजदूरों ने काम भी बंद कर दिया है। कई जगह मजदूरो की संख्या कम हो गई है। इसके अलावा जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र सहित कई काम प्रभावित हो रहे हैं। सोमवार को भी बड़ी संख्या में रोजगार सहायक हड़ताल पर रहे।

Posted By: Nai Dunia News Network