घटिया निर्माण और अधूरे कार्यों पर लोनिवि के कार्यपालन यंत्री को सांसदों ने लगाई फटकार

फोटो 11

विदिशा। जिला पंचायत में हुई बैठक में शामिल सांसद भार्गव और सिंह।

विदिशा। जिला विकास समन्वय और निगरानी समिति (दिशा) की बैठक में शुक्रवार को घटिया सड़कों का निर्माण और अधूरी पड़ी सड़कों का मुद्दा छाया रहा। जिस पर बैठक में मौजूद संसदीय क्षेत्र सागर के सांसद राजबहादुर सिंह एवं विदिशा सांसद रमाकांत भार्गव ने लोनिवि के कार्यपालन यंत्री योगेन्द्र सिंह को फटकार लगाई। इस दौरान जनप्रतिनिधियों से अमर्यादित शब्दों में बात करने पर कलेक्टर कौशलेन्द्र सिंह ने भी लोनिवि के सिंह के प्रति नाराजगी जताई। जिला पंचायत सभाकक्ष में आयोजित बैठक में दोनों सांसदों के अलावा विदिशा विधायक शशांक भार्गव, बासौदा विधायक लीना जैन, शमशाबाद विधायक राजश्री सिंह, कुरवाई विधायक हरिसिंह सप्रे एवं जिला पंचायत अध्यक्ष तोरणसिंह दांगी सहित अन्य सदस्य मौजूद थे। इस दौरान सभी सदस्यों ने जिले में लोनिवि के तहत बनाई गई सड़कों के निर्माण को गुणवत्ताहीन बताया। विदिशा विधायक भार्गव का कहना था कि निर्माण कार्यों की जांच के लिए जनप्रतिनिधियों की जिला स्तरीय समिति बनाई गई थी। लेकिन विभागीय अधिकारी ने इस समिति से अब तक निरीक्षण नहीं कराया। वहीं जिला पंचायत अध्यक्ष दांगी ने ग्रामीण क्षेत्रों में अधूरी सड़कों पर नाराजगी जताई। बैठक की अध्यक्षता कर रहे सांसद राजबहादुर सिंह ने जिलाधिकारियों को सचेत करते हुए कहा कि बैठक में तमाम जानकारियों सहित मौजूद हो ताकि जनप्रतिनिधियों के द्वारा चाही जाने वाली जानकारियां अधिकारी त्वरित हाजिर जवाब ना दें। उन्होंने पिछली बैठक का पालन प्रतिवेदन संबंधित विभागों के द्वारा उपलब्ध नहीं कराए जाने पर असंतोष जाहिर करते हुए भविष्य में इस प्रकार की पुनर्रावृत्ति ना हो का विशेष ध्यान रखने हेतु कलेक्टर को समीक्षा पूर्व अवलोकन करने की सलाह दी है। विदिशा सांसद रमाकांत भार्गव ने कहा कि बैठक एजेण्डा ही नही बल्कि सम्पूर्ण फोल्डर समिति के सदस्यगणों के लिए कम से कम एक सप्ताह पूर्व उपलब्ध कराया जाए ताकि सदस्यगण अध्ययन करने के उपरांत उन कमियों की ओर अधिकारियों का ध्यान आकर्षित करा सकें जो विकास कार्यो में अवरूद्व हो रही है। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने बैठक में अनुपस्थित एमपीआरडीसी के डिवीजनल इंजीनियर पवन अरोरा को शोकॉज नोटिस जारी करने के निर्देश दिए है। वही लोक निर्माण विभाग के कार्यपालन यंत्री को निर्देशित किया गया है कि जनप्रतिनिधियों की समिति से शीघ्र निर्माण कार्यों का परीक्षण कराया जाए। उन्होंने सभी अधिकारियों को सचेत करते हुए कहा कि भविष्य में इस बात का ध्यान रखा जाए कि समिति के अध्यक्ष एवं सदस्यों के जनहितैषी सुझावों का समय सीमा में पालन करें।

यूरिया की कमी का उठा मुद्दा

समिति की बैठक में सभी सदस्यों ने जिले में यूरिया की कमी का मुद्दा उठाया। इस दौरान विभागीय अधिकारी ने यूरिया की उपलब्धता की जानकारी दी। जिससे सांसद भार्गव संतुष्ट नहीं हुए। उनका कहना था कि वे अपेक्स बैंक के अध्यक्ष रहे हैं। उन्हें पता है कि यूरिया कैंसे बंटता है। इस दौरान विदिशा विधायक भार्गव ने शहरी क्षेत्र में पीएम आवास योजना के तहत बनाए जा रहे आवासों को महंगा बताते हुए इसकी कीमतों में कमी का सुझाव दिया।

सदस्यों को न एजेंडा दिया और न ही पालन प्रतिवेदन किया प्रस्तुत, सांसद हुए नाराज

विदिशा। जिला सड़क सुरक्षा समिति की बैठक में सदस्यों को एजेंडा नहीं देने और पालन प्रतिवेदन प्रस्तुत नहीं करने पर सागर सांसद राजबहादुर सिंह ने नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि अगली बैठक में पालन प्रतिवेदन तैयार होने के बाद बैठक की तारीख निर्धारित की जाए। बैठक के दौरान पुराने प्रस्तावों पर अमल नहीं होने से नाराज व्यापार महासंघ अध्यक्ष मुन्ना भैया जैन ने बैठक का बहिष्कार कर दिया।

जिला पंचायत के सभाकक्ष में आयोजित बैठक में जिला परिवहन अधिकारी से जब पिछली बैठक का पालन प्रतिवेदन मांगा गया तो वे यह जानकारी उपलब्ध नहीं करा पाए। इस दौरान समिति के सदस्यों ने एजेंडा जारी नहीं करने की भी शिकायत की। बैठक में मौजूद व्यापार महासंघ के अध्यक्ष मुन्ना भैया जैन का कहना था कि इस बैठक में पिछले पांच वर्षों में सिर्फ प्रस्ताव पारित किए जाते हैं। इन पर कोई कार्यवाही नहीं की जाती। ऐसी बैठक समिति के सदस्यों का समय खराब करती हैं। यही बात कहते हुए वे बैठक छोड़कर चले गए। करीब आधा घंटे तक चली बैठक में कुछ प्रमुख बिंदुओं पर ही चर्चा हो पाई। बैठक के समापन पर सांसद राजबहादुर सिंह ने कहा कि जिला स्तर की बैठक में अधिकारियों को पूरी जानकारी के साथ मौजूद रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि भविष्य में इस प्रकार की पुनर्रावृत्ति नहीं होना चाहिए। बैठक में सड़कों पर दुर्घटनाओं को रोकने के लिए जनजागृति कार्यक्रमों के साथ-साथ जनचेतना पर बल दिया गया है। वही सदस्यों के सुझाव पर जिले में ट्रेक्टर ट्रालियों आदि वाहनों में रिफलेक्टर लगाए जाने हेतु ग्राम पंचायतों के सचिवों को आवश्यक सामग्री उपलब्ध कराई जाए ताकि वे अपने-अपने कार्यक्षेत्रों के ग्रामों के ट्रेक्टर ट्रालियों में रिफलेक्टर लगाने का कार्य सुगमता से सम्पन्न किया जा सके। बैठक में कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने जिला परिवहन अधिकारी को निर्देशित किया कि बैठक आयोजन के पूर्व एजेण्डा बिन्दुओं की जानकारी समिति के सदस्यगणों को कम से कम एक सप्ताह पूर्व अवगत कराई जाएं। पालन प्रतिवेदन जिन विभागों से प्राप्त नहीं होता है कि जानकारी से अवगत कराए ताकि संबंधित विभागों के अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही की जाए। उन्होंने जिले में सुव्यवस्थित रूप से यातायात संचालन और सड़क मार्ग दुर्घटना रहित रखने के लिए सतत प्रयास करने के निर्देश दिए।

Posted By: Nai Dunia News Network