विदिशा(नवदुनिया प्रतिनिधि)।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की तर्ज पर प्रदेश में मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना के तहत किसानों को 4 हजार रुपये सम्मान निधि दी जानी है। जिले में इसके लिए पहले से पंजीकृत 2 लाख 11 हजार किसानों के सत्यापन का काम किया जा रहा है लेकिन सत्यापन के दौरान जिले में करीब 30 हजार किसान ऐसे हैं जो गांव में नहीं मिल रहे हैं।

सत्यापन करने वाले पटवारी गांव में उन्हें खोजने के बाद अब शहरों में तलाश कर रहे हैं। ऐसे में 20 नवंबर तक सत्यापन का काम पूरा नहीं हो सका है। हालांकि अधिकारियों ने दो दिन का और समय दिया है, ताकि सत्यापन का काम शत-प्रतिशत हो और किसानों को योजना के अनुसार दो हजार रुपये की किस्त जारी हो सके। प्रधानमंत्री सम्मान निधि के तहत जिले के किसानों को 6 हजार रुपये किस्तों में दिए गए। इसके लिए जिले में 2 लाख 11 हजार किसानों ने पंजीयन कराए थे। अब मुख्यमंत्री ने भी सम्मान निधि की घोषणा की है इसके बाद इन पंजीकृत किसानों के घर घर जाकर सत्यापन किया जा रहा है। पटवारी किसान का फोटो खींचकर उनकी जानकारी ऑनलाइन दर्ज कर रहे हैं। ऐसे में कई किसान गांव में बताए पते पर नहीं मिल रहे। कई किसानों की जमीन गांव में है लेकिन वह शहर में निवास करते हैं, मोबाइल नंबर भी नहीं होने की स्थिति में पटवारी इन्हें गांव से लेकर शहर तक खोजने में लगे हैं।

20 नवंबर तक एक लाख 70 हजार किसानों का ही तहसीलदारों द्वारा अनुमोदन हो सका था। करीब 30 हजार किसान अब भी शेष हैं, ऐसे में यदि इनका कुछ पता नहीं चलेगा तो इन्हें योजना का लाभ मिल पाना मुश्किल रहेगा। इस मामले में अपर कलेक्टर वृंदावन सिंह का कहना है कि यह निरंतर चलने वाली प्रक्रिया है। यदि कुछ किसान बताए पते पर नहीं मिले तो वे कहीं ओर होंगे। सत्यापन का काम अब भी चल रहा है, किसी को छोड़ा नहीं जाएगा। किसानों के खातों में पैसा डालना भी शुरू कर दिया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस