विदिशा। शहर में इन दिनों डेंगू तेजी से पैर पसारता जा रहा है। जिले में अभी तक जहां 31 मरीज मिल चुके हैं,वहीं शहरी क्षेत्र में भी 12 मरीज सामने आए हैं। सितंबर माह की ही बात करें तो जिले में हर दिन एक डेंगू का मरीज सामने आया है, लेकिन जिस तेजी से जिले में डेंगू की रोकथाम के लिए उपाय होना चाहिए वह नहीं हो रहे हैं। हालांकि मलेरिया अधिकारी बीएम वरूण का दावा है कि अभी तक 2200 घरों में सर्वे किया गया है जहां पर 33 घरों में ही डेंगू का लार्वा मिला है। बता दें कि शहर के करैयाखेड़ा क्षेत्र, रीठाफाटक, आरएमपी नगर, पूरनपुरा, लुहांगी मोहल्ला आदि क्षेत्रों में ही अभी तक डेंगू के मरीज मिले हैं। सूत्र बताते हैं कि करैयाखेड़ा क्षेत्र में सबसे ज्यादा डेंगू का लार्वा मिल रहा है। यहां डेंगू के भी तीन मामले सामने आए हैं जिनमें से दो मामले एक ही घर के थे। बताया जा रहा है कि यहां पर अभी तक दो बार सर्वे किया जा चुका है, लेकिन जिन घरों में पहले लार्वा मिल चुका है उनके यहां दूसरी बार भी लार्वा मिल रहा है। यहां के लोग सावधानी नहीं बरत रहे। जबकि जिन घरों में लार्वा मिले वहां पर नपा को पेनाल्टी लगाकर कार्रवाई करने के भी निर्देश हैं, लेकिन अभी तक किसी पर कोई कार्रवाई नहीं की गई।

जहां मिल रहे मरीज वहां हो रहा छिड़काव

भले ही प्रदेश भर में डेंगू पर प्रहार के तहत जागरूकता लाने के अलावा कीटनाशक का छिड़काव करने की बात कही जा रही हो, लेकिन जिन क्षेत्रों में मलेरिया और डेंगू के मरीज मिल रहे हैं सिर्फ वहां ही इसका छिड़काव किया जा रहा है। जबकि शहर में खाली पड़े प्लाट, खुले नाले, सड़क किनारे के गढ्डे जहां पर कई-कई दिनों तक बारिश पानी भरा रहता है वहां सबसे ज्यादा लार्वा तैयार हो रहा है। ऐसे ही स्थानों पर छिड़काव नहीं किया जा रहा है। इस संबंध में नपा के स्वास्थ्य अधिकारी राजेश शर्मा का कहना है कि हम पांच तरह की कीटनाशक का शहर में छिड़काव कर रहे हैं जहां से जिस तरह के मरीज की डिमांड आती है वहां उस तरह के कीटनाशक का छिड़काव करा दिया जाता है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local