विदिशा। एक सप्ताह बाद भी बेतवा के घाटों की सफाई नहीं हो सकी जिसके चलते लक्ष्मीपूजन के मौके पर स्नान करने पहुंची हजारों महिलाओं को खासी परेशानी के बीच स्नान करना पड़ा। तर्पण भी लोगों को गंदगी में ही करना पड रहा है। जिन घाटों पर हजारों लोग जुट रहे हैं वहां पर ना तो सफाई है और न ही कोई सुरक्ष् के पुख्ता इंतजाम। मंगलवार को महालक्ष्मी पूजन के मौके पर तड़के से ही बेतवा के घाटों पर स्नान करने के लिए महिलाओं का पहुंचना शुरू हो गया था जो दोपहर तक जारी रहा। बड़वाले घाट पर तर्पण करने पहुंच रहे लोगों के कारण बैसे ही घाट पर भीड़ जमी रहती है। इसी दौरान बड़ी संख्या में महिलाएं भी स्नान करने पहुंच गई। घाट में एक तरफ करीब 50 फीट से ज्यादा घाट पर गंदगी जमी हुई है जिसके चलते कम स्थान पर स्नान करने में लोगों को परेशानी हुई। श्रद्धालुओं का कहना था कि कम से कम पर्वो के दौरान तो प्रशासन को घाटों पर विशेष ध्यान देना चाहिए। बड़वाले घाट पर जरूर नियमित होमगार्ड के जवान मौजूद रहे, लेकिन यहां भी महिला पुलिस दिखाई नहीं दी। चरणतीर्थ घाट ओर महलघाट पर तो एक भी पुलिस का या होमगार्ड का जवान मौजूद नहीं था और न ही गोताखोर। जबकि इन घाटों पर भी खासी भीड़ जमी रही।

महिलाओं ने किया महालक्ष्मी पूजन

पिछले एक पखवाड़े से नित्य माता लक्ष्मी को जल अर्पित करती आ रहीं श्रद्धालु महिलाओं ने अष्टमी तिथि के मौके पर अपने सौभाग्य की मंगल कामना के साथ महालक्ष्मी का पूजन किया। इस दौरान सुंदर मंडप बनाकर मिट्टी निर्मित हाथी पर विराजमान माता लक्ष्मी जी को प्रसन्ना करने के लिए श्रद्धालु महिलाओं ने व्रत रखकर तरह-तरह के पकवान बनाकर माता को अर्पित किए और हाथी को दूर्वा अर्पित की। कई जगह यह पूजन महिलाओं ने सामूहिक रूप से किया गया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local