विदिशा/कुरवाई(नवदुनिया न्यूज)। महालक्ष्‌मी पूजन के अवसर पर मंगलवार सुबह स्नान करने के दौरान विदिशा और कुरवाई में हादसे हो गए। कुरवाई में जहां एक बालिका खंती में डूब गई तो वहीं विदिशा चरणतीर्थ घाट पर डूब रही एक बालिका को लोगों ने बचा लिया। विदिशा के चरण तीर्थ घाट के पास अपनी मां के साथ नदी में स्नान कर रही चिरोल वाली माता मंदिर निवासी 12 साल की बच्ची गहरे पानी में चली गई। गनीमत यह रही कि आसपास मौजूद लोगों ने तुरंत नदी में छलांग लगाकर बच्चों को सकुशल बाहर निकाल लिया। घटना सुबह करीब 7 बजे की है। दरअसल महालक्ष्‌मी पूजन के अवसर पर सुबह से ही बेतवा में स्थान करने वालों की भीड़ लगी रही। यहां चरण तीर्थ पर स्थान करने पहुंची एक 12 साल की बच्ची अपनी मां से दूर गहरे पानी में उतर गई। उसे डूबता हुआ देख चरण तीर्थ सेवा समिति के सदस्य रत्नेश सोनी, कृपाराम और जगदीश ने छलांग लगाकर उसे डूबने से बचा लिया। इधर घाटों पर सुरक्षा के इंतजाम नहीं होने से श्रद्धालुओं में खासी नाराजगी देखी गई। मध्य प्रदेश प्रांतीय पुजारी महासभा के अध्यक्ष पंडित संजय पुरोहित का कहना था कि इतने बड़े महापर्व पर जबकि घाटों पर हजारों की संख्या में श्रद्धालु स्नान करने पहुंच रहे हैं वहां पर आज पुलिस का एक भी जवान तैनात नहीं था।

सहेलियों के साथ नहा रही थी बालिका

कुरवाई थाना अंतर्गत समीपस्थ ग्राम सलेतरा में 15 वर्षीय बालिका स्वाति पुत्री तूफान सिंह लोधी की खंती में डूबने से मौत हो गई। स्वाति सुबह महालक्ष्‌मी व्रत पूजन हेतु स्नान करने अपनी तीन सहेलियों के साथ ग्राम के पास मुरम की अवैध खदान में बनी खंती में नहा रही थी। इसी दौरान बालिका खदान के गहरे पानी में डूब गई। उसकी सहेलियों की चीख पुकार सुनकर ग्रामीण जन एवं बालिका के पिता तोरण सिंह ने मौके पर पहुंचे और तीन बालिकाओं को सुरक्षित बचा लिया। लेकिन स्वाति को नहीं बचा पाए। विवेचना अधिकारी एसआई सुरेश जाटव ने बताया की प्रकरण में मर्ग कायम कर विवेचना की जा रही है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local