विदिशा(नवदुनिया प्रतिनिधि)। घरेलू हिंसा और शोषण से पीड़ित महिलाओं के लिए नया सखी वन स्टॉप सेंटर भवन बन रहा है। नर्सिंग कॉलेज के सामने करीब 60 लाख रुपये की लागत से भवन का निर्माण शुरू हो गया है। वन स्टॉप सेंटर में पीड़ित महिलाओं को पुलिस सहायता केंद्र और राज्य की योजनाओं का लाभ सहित अस्थाई तौर पर ठहरने की सुविधा भी होगी। सखी वन स्टॉप सेंटर अंतर्गत सभी प्रकार की हिंसा से पीड़ित महिलाओं एवं बालिकाओं को एक ही स्थान पर अस्थायी आश्रय, पुलिस-डेस्क, विधि सहायता, चिकित्सा एवं काउन्सलिंग की सुविधा वन स्टॉप सेन्टर में उपलब्ध कराई जाएगी। एक ही छत के नीचे हिंसा से पीड़ित महिलाओं एवं बालिकाओं को एकीकृत रूप से सहायता एवं सहयोग प्रदाय करना। पीड़ित महिला या बालिका को तत्काल आपातकालीन एवं गैर आपातकालीन सुविधाएं उपलब्ध करना, जैसे-चिकित्सा, विधिक, मनौवैज्ञानिक परामर्श आदि सभी प्रकार की सुविधा एक ही जगह मिलती है। विदिशा में साल 2018 में सखी वन स्टॉप सेंटर की शुरुआत कोतवाली परिसर के पुराने सीएसपी कार्यालय में हुई थी। वर्तमान में यहां एक ही भवन में महिला थाना, सखी वन स्टॉप सेंटर, परिवार परामर्श केंद्र और अधिकारियों के बैठक कक्ष हैं।

थाना परिसर में जाने से झिझकती थी महिलाएं

वर्तमान में वन स्टॉप सेंटर कोतवाली परिसर के तीन कमरों में संचालित हो रहा है। यहां जगह की कमी है, वहीं कोतवाली परिसर में जाने से कई महिलाओं को झिझक, संकोच होता था जो अब नया भवन अलग बनने से नहीं होगा। पीडब्ल्यूडी की परियोजना क्रियान्वयन ईकाई ने इसका निर्माण भी शुरू कर दिया है। महिला एवं बाल विकास अधिकारी ब्रजेश शिवहरे ने बताया कि केंद्र सरकार की योजना के तहत वन स्टॉप सेंटर संचालित हो रहा है, 60 लाख रुपये की लागत से नया भवन बन रहा है। यहां पीड़ित महिलाओं को केंद्र एवं राज्य सरकार द्वारा जारी सभी प्रकारी की सुविधा मिलेगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local