विदिशा( नवदुनिया प्रतिनिधि)। एतिहासिक श्रीरामलीला में पांचवे दिन मंगलवार को भगवान श्रीराम के विवाह की भव्य लीलाओं का मंचन किया गया। आठ घंटे में पहुंचने वाली बरात एक घंटे में ही रामलीला प्रांगण में पहुंच गई। इस दौरान श्रीराम सहित लक्ष्‌मण, भरत और शत्रुघन के विवाह संपन्ना कराए गए। खास बात यह है कि एक ही दिन में चार लीलाओं का मंचन किया गया जिसमें भगवान को राजा बनाने की भी घोषणा की गई। बता दें कि दो साल पहले तक शहर के माधवगंज चौराहा से भगवान की भव्य बरात निकाली जाती थी जिसमें बड़ी संख्या में श्रद्धालु शामिल होते थे। मार्ग में जगह-जगह श्रद्धालु और व्यापारी बरात का पुष्प वर्षाकर स्वागत करते थे। शाम को करीब 6 बजे शुरू होने वाली बरात रात को दो बजे रामलीला प्रांगण पहुंचती थी, लेकिन दो साल से कोरोना संक्रमण के चलते रामलीला परिसर में ही बरात निकाली जा रही है जो करीब एक घंटे में ही संपन्ना हो जाती है। मंगलवार को सजे-धजे अश्वों पर चारों राजकुमार और रथों पर अन्य देवी-देवता और चक्रवर्ती सम्राट दशरथ जी सवार होकर चल रहे थे। वहां भी श्रद्धालुओं ने बरात का स्वागत किया। इसके बाद भी बरात एक घंटे में ही संपन्ना हो गई जिसके चलते अन्य लीलाओं का भी मंचन किया गया। उप प्रधान संचालक डॉ. सुधाशु मिश्र ने बताया कि साढ़े चार बजे बरात निकलना शुरू हो गई थी जो करीब साढ़े पांच बजे मेला से लीला प्रांगण पहुंचकर संपन्ना हुई।उन्होंने बताया कि दिन में बरात निकलने के कारण बिजली की व्यवस्था भी नहीं करनी पड़ी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local