विदिशा(नवदुनिया प्रतिनिधि)। पुरातात्विक और ऐतिहासिक रूप से समृद्ध विदिशा जिले में राज्य पुरातत्व विभाग का संग्रहालय बदहाली का शिकार हो गया है। इस संग्रहालय में बने दर्शक दीर्घा की दीवारें में दरारें आ गई है। जमीन का फर्श भी उखड़ गया है। इस दीर्घा में रखी प्राचीन मूर्तियों के गिरकर टूटने का खतरा बढ़ गया है। बुधवार को संग्रहालय दिवस पर पहुंचे सांसद रमाकांत भार्गव ने इस संग्रहालय की बदहाली पर चिंता जताते हुए पर्यटन एवं संस्कृति विभाग को पत्र लिखने की बात कही है। जिला पुरातत्व संग्रहालय में पुरामहत्व की दूसरी शताब्दी से लेकर 13 वीं शताब्दी तक की मूर्तियां रखी हुई है। वर्ष 2005 में तत्कलीन संस्कृति मंत्री स्व. लक्ष्‌मीकांत शर्मा ने इस संग्रहालय में नई दर्शक दीर्घा बनाने के लिए 20 लाख रुपये मंजूर किये थे। इस दीर्घा में 35 प्राचीन मूर्तियां रखी हुई है।लेकिन देखरेख के अभाव में इस भवन की दीवारें क्षतिग्रस्त हो गई है। मूर्तियों को रखने वाले पेडस्टल भी खराब हो गए है। कुछ वर्ष पहले एक मूर्ति पेडस्टल टूटने से नीचे भी गिर गई थी।इसके बावजूद इस कक्ष की मरम्मत नहीं हुई। संग्रहालय के संचालन की स्थिति ये है कि यहां कोई स्थायी क्यूरेटर तक नहीं है। संग्रहालय के प्रभारी इंद्रपाल यादव के मुताबिक उनके कार्यालय से दर्शक दीर्घा की मरम्मत का प्रस्ताव वरिष्ठ कार्यालय को भेजा गया है।इधर, बुधवार को सांसद भार्गव जब दर्शक दीर्घा पहुंचे तो यहां के हालात देखकर हतप्रभ रह गए। उन्होंने कहा कि वे इस सम्बंध में विभागीय मंत्री को पत्र लिखेंगे। उनके साथ भाजपा जिलाध्यक्ष राकेश जादौन, पूर्व नपा अध्यक्ष मुकेश टण्डन भी साथ थे। इधर, अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस पर विरासत समूह के सदस्य जिला संग्रहालय पहुंचे और उन्होंने अवलोकन किया। इस अवसर पर समूह के एड्मिन इतिहासविद् गोविंद देवलिया एवं मयंक कानूगो ने विरासत समूह के सदस्यों की जिज्ञासाओं का यथा संभव समाधान किया गया। इस दौरान विजय चतुर्वेदी, अरविंद श्रीवास्तव, सुभाष जैन, अबधेश दुबे, जितेन्द्र सेंगर,संतोष नामदेव बैंक मैनेजर, वीरेन्द्र शर्मा, कमल रैकवार, राकेश मीणा,डॉ कटारिया, दक्ष्‌य दुबे आदि उपस्थित थे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close