विदिशा(नवदुनिया प्रतिनिधि)। आम लोग अच्छा मानसून और किसान जमीन को तपाने के लिए नौतपा का इंतजार करते थे,लेकिन पिछले 12 साल से मौसम बदल गया है। अब नौतपा से पहले ही तापमान इतना अधिक रहने लगा कि नवतपा के दौरान ज्यादा गर्मी का अहसास नहीं होता। नवतपा के दौरान अब बारिश भी होने लगी है। बता दें कि इस साल मार्च के पहले पखवाड़े से ही तापमान बढ़ना शुरू हो गया था। पिछले 10 साल का रिकार्ड देखा जाए तो इस साल मार्च माह में सामान्य से दो से तीन डिग्री तापमान अधिक रहा है जो अभी भी जारी है। मौसम वैज्ञानिक सतेंद्रसिंह तोमर का कहना है कि नौतपा के दौरान अधिकतम तापमान 43 डिग्री के आसपास रहता है, लेकिन इस साल नौतपाके पहले ही तापमान 44 .2 डिग्री के आसपास पहुंच चुका है। उन्होंने बताया कि 25 मई से शुरू होने वाले नौतपा के पहले ही बारिश होने की संभावना बन रही है, जिसके चलते नौतपा में तापमान और कम रहने के आसार हैं। रविवार को दिन का तापमान दो डिग्री गिरकर 41.5 डिग्री पर सिमटा रहा और रात के तापमान में भी गिरावट आई है। भारतीय ज्योतिष के जानकार भी नौतपा में बारिश होने की संभावना जता रहे हैं। ज्योतिषाचार्य पंडित संजय पुरोहित ने बताया कि नौतपा में बारिश की संभावना बन रही है। किसान रामसेवक मीना का कहना है कि नौतपा में जितनी अधिक गर्मी पड़ती है उतना ही अच्छा मानसून आता है और जमीन भी तप जाती है। नौतपा खंडित होने से मानसून कमजोर पड़ जाता है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close