सिरोंज(नवदुनिया न्यूज)। अखिल भारतीय सफाई कर्मचारी कल्याण संघ के बैनर तले एक बार फिर नपा के समस्त सफाई कर्मचारी काम बंद कर अनिश्चितकालिन हड़ताल पर चले गए है। गुरूवार को सफाई कर्मचारियों ने काम बंद कर नपा कार्यालय के सामने धरना प्रदर्शन किया। इस दौरान उन्होंने नपा सीएमओ को 10 सूत्रीय मांगो को लेकर ज्ञापन भी सौपा। जिसमें उन्होंने बताया परमसुख सेन को गैर कानूनी तरीके से हटाया दिया गया है उनको पुनः नौकरी पर रखा जावे। कोरोना काल में जिन पांच कर्मचारियों ने कार्य किया था,उन कर्मचारियों को रखा जावे। सफाई कर्मचारियों से छुट्टी आवेदन वार्ड दारोगा को लेने हेतू निर्देषित करें। हर माह की एक तारीख से 5 तारीख तक कर्मचारियों का वेतन डाला जावे। पूर्व में भी लिखित रूप से आवेदन दे चुके है। नगर पालिका से सफाई कर्मचारी के पद पर रहते हुए रामबावू घेंघट की मृत्यू हो गई। उनके पुत्र को सफाई कर्मचारी के पद पर अनुकंपा नियुक्ति की जावे। जिन कर्मचारियों को दस साल पूर्ण हो चुके है शासन के आदेष अनुसार उनको विषेष भत्ता 1500 रूपये दिया जाता है जो आज दिनांक तक सिरोंज नगर पालिका द्वारा कर्मचारियों को नहीं दिया गया है। विषेष भत्ता दिया जावे। वाल्मिीकि कर्मचारी जो मैजिक चालाक का कार्य कर रहे है नियम अनुसार उन्हें कुशल वेतन दिया जावे। शासन के आदेष अनुसार 2016 तक के दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों को विनीमितिकरण किया जावे। वहीं समस्त सफाई कर्मचारियों ने चेतावनी देते हुए कहा है कि यदि हमारी मांगो को पूरा नहीं किया गया तो यूनियन मजबूर होकर अन्य विकल्पों पर विचार करेगी। इस दौरान बड़ी संख्या में सफाई कर्मचारी मौजूद रहे। वहीं यूनियन के जिलाध्यक्ष विशाल घेंघट ने बताया कि जब तक हमारी मांगे पूरी नहीं होगी तब तक हम काम पर नहीं लौटेगें। विगत चार माह से सिर्फ हमें आश्वासन मिल रहा है मगर अब जब तक हमारी मांगे पूरी नहीं होगी तब तक हड़ताल जारी रहेगी।

एक दिन में चरमरा गई सफाई व्यवस्था

नपा के सफाई कर्मचारियों के हड़ताल पर रहने से नगर की सफाई व्यवस्था एक दिन में ही चरमरा गई। कचरा गाड़ियों के वार्डो मे नहीं पहुंचनने से सड़कों के किनारे जगह-जगह कचरे के ढेर लगे नजर आए। इसके अलावा कई लोग दिनभर कचरा गाड़ियों के आने का इंतजार करते रहे। शहर की सड़को पर सफाई नहीं होने से गदंगी पसरी नजर आई। उल्लेखनीय है कि इन दिनों नपा द्वारा आगामी मानूसन को लेकर नाले-नालियों की सफाई का कार्य किया जा रहा था,लेकिन गुरूवार से सफाई कर्मचारियों के हड़ताल पर जाने से वह कार्य भी बंद हो गया। यदि सफाई कर्मचारी एक-दो दिन में काम पर नहीं लौटे तो आगामी बारिश में इसका परिणाम नपा को भुगतना पड़ेगा। क्योंकि अभी भी शहर के कई नाले-नालियों की सफाई होना बाकी है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close