गंजबासौदा(नवदुनिया न्यूज)। आषढ़ मास की दूज पर शुक्रवार को शहर में तीन अलग-अलग स्थानों से जगन्नााथ का भात जगत पसारे हाथ के जयकारों के साथ नगर में भगवान जगदीश स्वामी की रथयात्रा निकाली गई। भगवान अपनी बहन सुभद्रा और भाई बलदाऊ के साथ नगर भ्रमण पर निकले। भगवान का श्रृंगार करने के साथ ही सुबह 9 बजे मंदिर में महाआरती की हुई। इसके बाद जगदीश स्वामी, बहन सुभद्रा और बलदाऊ की प्रतिमा को रथ में स्थापित किया गया उसके बाद रथ शहर के मार्गों कि और निकले। इस दौरान भगवान की एक लझक पाने के लिए भक्तों का सैलाब सड़कों पर दिखाई दिया। आषढ़ मास की दूज पर निकलने वाले भगवान जगदीश स्वामी के रथों को निकले का इंतजार काफी समय से धार्मिक लोगों को था। सुबह जैसे ही तीनों रथ अपने-अपने स्थान से शहर के मार्गो के लिए रवाना हुए। उन रथों के आगे बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहकर रथों को खींच रहे थे। रथ यात्रा के दौरान शहर के अखाड़ों के सदस्य करतब दिखाते हुए आगे चल रहे थे। वहीं रथों के आगे कई भजन मंडलियां भगवान के भजन गाते हुए चल रही थीं। वहीं युवा भी डीजे की धुन पर नाचते हुए रथ के आगे-आगे चल रहे थे। वहीं रथ के पीछे महिलाएं भी गीत गाते हुए रथ को धाकते हुए चल रही थी। जिस जगह से ये रथ गुजर रहे थे वहां सड़क के दोनों ओर मौजूद लोग भगवान की आरती उतार रहे थे तो कई लोग प्रसाद चढ़ा रहे थे। वहीं रथों पर सवार समिति के सदस्य रथ पर से ही भगवान जगन्नााथ का भात लोगों को बांट रहे थे। इस दौरान भगवान जगन्नााथ का भात पाने के लिए बड़ी संख्या में लोग रथों के पास पहुंच रहे थे। इतना ही नहीं मौजूद लोग जोर-जोर से नारा लगा रहे थे कि भगवान जगन्नााथ का भात जगत पसारे हाथ।

शहर में निकली रथ यात्रा का हुआ स्वागत

शहर में जगदीशा रथ यात्रा के दौरान निकले जाने वाले रथों का जगह-जगह कई लोगों, समाज सेवियों, सामाजिक संगठनों के सदस्यों द्वारा भव्य स्वागत किया गया। वहीं कई जगाहों पर लोगों ने भगवान जगदीश स्वामी के रथ पर पुष्प की वर्षा की। कई स्थानों पर धार्मिक लोगों को प्रसाद बांटा गया।

शहर में निकले तीन रथ

भगवान जगदीश की रथ यात्रा को लेकर शहर में 3 रथ निकाले गए। जिसमें पहला रथ बेदनखेड़ी जग्गा के मंदिर से प्रारंभ हुआ। इसके बाद दूसरे रथ का शुभारंभ नोलखी मंदिर से संत जगन्नााथ दास महाराज द्वारा किया गया। वहीं तीसरा रथ का शुभारंभ पंचमुखी हनुमान मंदिर से हुआ है। ये तीनों रथ अपने-अपने स्थानों से शहर के मुख्य मार्गों से होते हुए निकले। लकड़ी से बने रथ में भगवान जगन्नााथ को विराजमान कर श्रद्धालुओं उस रथ को अपने हाथों से खींचा। बेदन खेड़ी से आने बाला रथ सिरोंज चौराहा, गांधी चौक, सावरकर चौक होकर जयस्तंभ से वापस भावसार समाज के धनुष धारी मंदिर पहुंचा। वहीं बेतवा नोलखी घाट से एक रथ यात्रा प्रारंभ होता है जो गांधी चौक, सावरकर चौक, हनुमान चौक से स्टेशन रोड स्थित नोलखी मंदिर पहुंचा।

बाक्स

सुरक्षा को लेकर जगह-जगह पुलिस रही तैनात

शुक्रवार को शहर में निकाली गई भगवान जगदीश स्वामी की रथ यात्रा के दौरान शहर और आस पास के ग्रामीण क्षेत्रों से बड़ी संख्या में ग्रामीण रथ यात्रा देखने के लिए शहर में आए। इस दिन भीड़ को देखते हुए पुलिस प्रशासन द्वारा शहर के मुख्य मार्गों पर जिन रास्ते से इन रथों को निकलना था उन रास्तों पर वाहनों का जाम न लगे इसको लेकर काफी इंतजा किए गए थे सावरकार चौक,हुनमान चौक कि आरे से आने वाले रथों के रास्ते पर वाहनों की वजह से कोई परेशानी न आए इसके लिए पुलिस द्वारा ज्य स्तंभ चौक पर बैरिकेड्स लगा दिए गए थे। इस रास्ते पर रथों के निकलने तक चार पहिया वाइनों और बड़े वाहनों के जाने पर रोके लगा दी थी। वहीं कई बाइक चालक छोटी-छोटी गलियों के रास्ते पर अपने मंजिल के लिए निकले।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close