श्योपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

घर से बाहर जाते समय पुलिस को सूचित करना हमारी जिम्मेदारी है, लेकिन किसी भी हाल में हम ऐसा नहीं करते। ज्यादा से ज्यादा पड़ोसी से कह जाते हैं, लेकिन पुलिस को कहने से कतराते हैं। चोरी जैसी वारदात के होने पर पुलिस को दोषी ठहराते हैं। सालभर में शहर के किसी भी व्यक्ति ने परिवार सहित घर से बाहर जाते समय पुलिस को सूचित नहीं किया। शहर में दो थाने सिटी कोतवाली और देहात में किसी ने भी थाने पर आवेदन कर नहीं बताया कि वह परिवार सहित बाहर जा रहा है और कितने दिन में वापस आएगा। पुलिस समय-समय पर सभी लोगों से अनुरोध करती है कि सूना घर छा़ेडने से पहले सूचित करें, ताकि गश्त के दौरान संबंधित के घर पर विशेष नजर रख सकें। इसके अलावा दिन में भी घर का ध्यान रख सकें। बावजूद इसके अभी तक किसी भी व्यक्ति ने सूना घर छोड़ने से पहले किसी भी थाना क्षेत्र में आवेदन कर जानकारी नहीं दी।

थाने में सूचना देने की यह है प्रक्रिया

सूना घर छोडने से पहले संबंधित थाने में आवेदन कर शहर से बाहर जाने और आने की तारीख का खुलासा करना होता है। आवेदन सादे कागज पर लिख दे सकते हैं। इसमें मकान मालिक का संपर्क नंबर भी लिखना होता है।

कॉलोनियों में चोरी की अधिक वारदातें

सिटी कोतवाली टीआइ रमेश डांडे के अनुसार सालभर में किसी व्यक्ति ने सूना घर छोड़ने से पहले पुलिस को सूचना नहीं दी। लेकिन सूने मकानों में चोरियां अधिकांशः कॉलोनी वाले क्षेत्रों में होते है। यहां का क्षेत्रफल फैला होता है। घर भी दूर-दूर होते हैं।

इनके यहां सूने घर में हुई चोरी

-2 अक्टूबर को पापूजी मोहल्ला निवासी गीता पत्नी राजेन्द्र के सूने घर से चोर सोने-चांदी के जेवर व 18 हजार रुपये सहित 60 हजार चुराकर ले गए हैं।

-24 सितंबर को दिनेश गुप्ता के सूने घर से चोर सोने-चांदी के जेवर सहित अन्य सामान चुराकर ले गए हैं।

घर छोड़ने से पहले ये रखें सावधानी

-परिवार सहित कही भी जाने से पहले संबंधित थाने पर आवेदन करे।

-पड़ोसियों को जानकारी दें। संभव हो तो किसी परिचित को रात में रुकने का कहें।

-घर के बाहर प्रकाश की व्यवस्था रखें ताकि रात के समय घर के आसपास घूमने वाले लोगों को स्पष्ट देख सकें।

- कीमती ज्वेलरी, रुपए, लॉकर परिचित के पास रखवा कर जाए।

40 प्रतिशत सूने मकानों में चोरियां

शहर में चोरियों का ग्राफ ऊंचा है। 40 प्रतिशत चोरियां सूने मकानों में हुई हैं। यह आंकड़ा है जो थानों में दर्ज है, जबकि ऐसे भी मामले होते हैं कि पुलिस छोटी-मोटी चोरी में आवेदन लेकर रख लेती है। ऐसी चोरियों का कोई हिसाब नहीं है।

थाना चोरियां नुकसान

सिटी कोतवाली 15 10 लाख से अधिक

देहात 19 20 लाख से अधिक

(आंकडे थानों से मिली जानकारी अनुसार)

वर्जन :

सूचना देकर सूना छोडे घर :

सूने मकान में होने वाली चोरियों को रोकने के लिए एक ही रास्ता है संबंधित घर छोड़ने से पहले घर में किसी रिश्तेदार को छोड़कर जाए। इसके साथ पुलिस व पड़ोसियों को जानकारी देकर जाए। हम बार-बार सभी से अपील करते हैं। लोग इस पर अमल नहीं करते हैं।

-रमेश डाण्डे, टीआइ सिटी कोतवाली।

फोटो नंबर 7 कैप्शन : शहर में स्थित सिटी कोतवाली।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020