श्योपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

शहर के वार्ड 15 कमालखेड़ी में बिजली कंपनी की लापरवाही से कई घरों पर छत तक नहीं डल पा रही है। कॉलोनाइजरों को लाभ दिलाने के उद्देश्य से बिजली कंपनी ने हाईटेंशन लाइन के तार इतने नीचे कर दिए हैं,कि छतों को छूकर जा रहे हैं। इससे कई घरों के लोग तो अपनी छतों पर भी नहीं जा पा रहे हैं।

कमालखेड़ी बस्ती में वनविभाग की खारिज चैकी जहां अब नगरपालिका पार्क निर्माण कर रही है। इसके सामने एक कॉलोनाइजर ने 4 साल पहले कॉलोनी काटी थी। इस कॉलोनी में बड़े टीले पर लगा हाईटेंशन लाइन के तार बिजली कंपनी ने कॉलोनाइजर की सुविधा को ध्यान में रखते हुए टीले को काटकर करीब 15 फीट नीचे कर दिया। जिससे बस्ती के दो दर्जन से अधिक घर हाईटेंशन लाइन की चपेट में आ गए। जहां-जहां से लाइन गुजरी हैं वहां पर लोगों ने छतों पर जाने वाले जीने पर ताला जड़ दिया है। छत पर चढ़ने से कई रहवासी करंट लगने से घायल हो चुके हैं। रहवासियों ने हाईटेंशन तार के रूप में सिर पर मंडरा रही मौत से छुटकारा दिलाने के लिए कलेक्टर और बिजली कंपनी के अधिकारियों को कई बार आवेदन देकर शिकायत भी कर चुके हैं। लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई।

5 लाख में प्लॉट लिया, लेकिन घर नहीं बना सके :

बस्ती में रहने वाले डॉ. रामप्रसाद वैष्णव ने 10 साल पहले 5 लाख रुपये में भवन बनाने के लिए प्लाट लिया था। बाद में हाईटेंशन लाइट नीचे होने से मकान नहीं बना पाए। आज भी डॉ. वैष्णव चार दीवारी के बीच झोपड़ी बनाकर रह रहे हैं। खुले मैदान में उन्होंने फुलवारी जरूर लगा रखी है, लेकिन उन्हें रुपये खर्च करने के बाद भी अपना मकान नहीं बनने का आज भी मलाल है। डॉ. वैष्णव के अलावा सत्यनारायण राठौर, योगेश जंगम, जगदीश सुमन, जीवराज सुमन, रामभरत आदि ऐसे लोग हैं, जो या तो बिना छत के रह रहे हैं या फिर छत पर जाने के रास्ते में करंट आ जाने के डर से ताले लगाए हुए हैं।

वर्जन :फोटो नंबर 4

मेरे मकान से सटकर जा रही लाइन की वजह से मैंने जीने में ताला डला हुआ है। दो साल पहले मेरा 12 वर्षीय पुत्र पवन को करंट लग गया था। भगवान की कृपा रही कि, वह बच गया। मेरे बेटे की तरह ही कई लोग करंट की चपेट में आ चुके हैं।

जगदीश सुमन, रहवासी

वर्जन : फोटो नंबर 5

मैंने अपने घर के ऊपर से गुजर रही हाईटेंशन लाइन में प्लास्टिक के पाइप डलवा दिए। इसके बाद भी मकान बनाते समय कारीगर को करंट लग गया था। तब से ही मकान का काम अधूरा पड़ा है। भरा-पूरा परिवार एक ही कमरे में गुजर-बसर करने को मजबूर है।

हनुमान राठौर, रहवासी कमालखेड़ी

वर्जन : फोटो नंबर 6

बिजली कंपनी ने घरों की लाइन तो रोड किनारे डाली हैं, लेकिन, हाईटेंशन लाइन छतों के ऊपर से निकाल दी है। अगर यह लाइन भी घरों की लाइन के साथ रोड किनारे डाली जाती तो न तो करंट का खतरा होता और न ही हमारे घर अधूरे बने रहते।

जीवराम सुमन, निवासी, कमालखेड़ी

वर्जन :

वार्ड 15 में हाइटेंशन की लाइन घरों के ऊपर से निकली है तो हम टीम भेजकर चेक करा देंगे। रहवासियों को परेशान नहीं होने देंगे।

-इंद्रेश्वरसिंह, एई, बिजली कंपनी, श्योपुर।

कैप्शन : घरों के ऊपर से निकली हाईटेंशन लाइन।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020