फोटो नंबर 2

सोंईकलां। नईदुनिया न्यूज

भीखापुर से हनुमाखेड़ा तक सड़क नहीं बनने से ग्रामीणों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। ग्रामीणों का कहना है, कि बरसात में रास्ते में कीचड़ हो जाती है, जिससे निकल भी नहीं पाते हैं। साथ ही दिनभर वाहनों के निकलने से धूल उड़ती रहती है। धूल उड़ने से ग्रामीणों को कई प्रकार की बीमारियां फैलने की आशंका बनी हुई है।

गौरतलब है कि भीखापुर से हनुमानखेड़ा तक 2 किमी की सड़क बनाने की मांग ग्रामीणों द्वारा कई वर्षों से से की जा रही है, लेकिन इस सड़क को न तो ग्राम पंचायत बनवा रही है और न ही प्रधानमंत्री सड़क योजना से बन पा रही है। ऐसे में इस मार्ग पर धूल के गुबार उठ रहे हैं। धूल उड़ने से ग्रामीणों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। भारी वाहन के आवाजाही से परेशानी बढ़ती जा रही है। भारी वाहन के पीछे-पीछे चलने वाले छोटे-छोटे वाहन खासकर बाइक चालकों को ज्यादा परेशानी हो रही है। सड़क पर उड़ रही धूल बाइक चालक की आंखों में घुस जाती है। इससे अक्सर दुर्घटना होनी की संभावना बनी रहती है। छोटे वाहन चालकों को दिन में भी लाइट जलाकर चलना पड़ता है। ग्रामीणों ने उक्त रोड प्रधानमंत्री सड़क योजना में शामिल कर शीघ्र बनाए जाने की मांग की है।

बरसात में रास्ते में हो जाती है कीचड़

भीखापुर से हनुमाखेड़ा तक पक्की रोड नहीं बनने से बरसात के समय तो इस रास्ते पर इतनी कीचड़ हो जाती है, दोपहिया वाहन तक नहीं निकल पाते हैं। कच्चा रास्ता होने से बरसात में कीचड़ हो जाता है। अधिकारियों को कई बार अवगत करवाने के बाद भी इस ओर किसी ने ध्यान नहीं दिया। बीमार लोगों को बड़ी मुश्किल से सड़क तक पहुंचा पाते हैं।

डंपरों ने बिगाड़ी रास्ते की सूरत

ग्रामीणों का कहना है कि, केनाल पर रोड का काम चल रहा है। इस रोड सामग्री लेकर जाने वाले भारी वाहन डंपर आदि दिनभर यहां से गुजरते हैं, जिससे रास्ते की पूरी तरह सूरत बिगड़ गई है। इस रास्ते से भारी वाहनों के आने जाने से मिट्टी बारीक हो गई। अब जैसे ही कोई वाहन मार्ग से गुजरता है, तो मिट्टी का गुबार बन जाता है। ऐसे में यहां से गुजरने वाले ग्रामीण खांसी, एलर्जी एवं दमे से ग्रसित हो रहे हैं।

वर्जन :

भीखापुर से हनुमानखेड़ा तक सड़क नहीं बनने से चार गांव के ग्रामीणों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। कई बार रोड की मांग को लेकर अधिकारियों को आवेदन दे चुके हैं, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

सियाराम बंजारा, निवासी भीखापुर।

वर्जन

कच्चा रास्ता होने के कारण दिनभर वाहनों के निकलने से धूल उड़ती रहती है। सबसे ज्यादा परेशानी बरसात के समय होती है। बरसात में तो इस रास्ते से निकलना ही बंद हो जाता है, अभी कैनाल पर रोड का काम चल रहा है तो दिनभर गिट्टी, मुरम के वाहन इस रास्ते से होकर निकलते हैं।

-गोपाल बंजारा, सरपंच, ग्राम पंचायत नंदापुर।

कैप्शन : वाहनों निकलने से रोड पर उड़ती धूल।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020