AISHE Report: छात्रों का रुझान उच्च शिक्षा की तरफ तेजी से बढ़ रहा है। पिछले 5 सालों में नामांकन में 11.4 फीसद की बढ़ोतरी हुई है। वहीं स्टूडेंट्स का सकल नामांकन दर 27.1 फीसद हो गई है। केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय द्वारा जारी अखिल भारतीय उच्च शिक्षा सर्वेक्षण की 2019-2020 की रिपोर्ट में सामने ये तथ्य सामने आए हैं।

शिक्षकों की संख्या में कमी

एआईएसएचई रिपोर्ट के अनुसार साल 2014-15 में उच्च शिक्षा की सकल नामांकन दर 24.3 फीसद थी। वर्ष 2019-20 में बढ़कर 27.1 फीसद हो गई है। साथ ही उच्च शिक्षा में छात्रों की कुल नामांकन संख्या बढ़कर 3.85 करोड़ हो गई है। 2018-19 में यह संख्या 3.74 करोड़ और 2014-15 में 3.42 करोड़ थी। हालांकि परेशानी वाली बात है कि उच्च शिक्षण संस्थानों में शिक्षकों की संख्या लगातार कम हो रही है।

केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने जताई खुशी

रिपोर्ट के मुताबिक साल 2015-16 में उच्च शिक्षण संस्थानों में शिक्षकों की कुल संख्या 15.18 लाख थी। वर्ष 2019-20 में घटकर 15.03 लाख हो गई है। सकल नामांकर दर में बढ़ोतरी पर केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने खुशी जताई है। उन्होंने कहा कि इससे नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अमल में तेजी आएगी।

प्रोफेशनल पाठ्यक्रमों में छात्रों की दिलचस्पी बढ़ी

एआईएसएचई रिपोर्ट के अनुसार पहले के मुकाबले बीबीए, बीएड और एलएलबी जैसे प्रोफेशनल पाठ्यक्रमों ने छात्रों की दिलचस्पी बढ़ी है। एमबीए करने स्टूडेंट्स की संख्या 2014-15 में 3.49 लाख थी, जो 19-20 में 5.28 लाख हो गई। इसी तरह बीएड के छात्रों की संख्या 2014-15 में 5.14 लाख थी, जो वर्ष 2019-20 में 13.16 लाख हो गई है। एलएलबी करने वालों की संख्या 2014-15 में तीन लाख थी, जो 19-20 में बढ़कर करीब चार लाख हो गई है।

Posted By: Shailendra Kumar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags