CBSE 10th, 12th Board Exams 2020: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) की 10वीं और 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाएं आज से शुरू हो गई। इन परीक्षाओं में कुल 30 लाख से ज्यादा छात्र-छात्राएं हो रही हैं। गौरतलब है कि 10वीं की परीक्षाएं 20 मार्च तक और 12वीं की परीक्षाएं 30 मार्च तक चलेंगी। इस बार की परीक्षाओं में पुलवामा हमले के शहीदों के बच्चों को बोर्ड ने विशेष छूट दी है।

सुबह 10 बजे से शुरू

बता दें कि ये परीक्षाएं सुबह 10 बजे से शुरू हुईं। CBSE बोर्ड के निर्देशानुसार बच्चों को करीब 15 मिनट पहले से ही केंद्र में प्रवेश दे दिया गया था। छात्रों को नए नियमों के पालन करने के सख्त निर्देश दिए गए और उन्हीं निर्देशों के तहत उन्हें कोई भी वस्तु साथ ले जाने की अनुमति नहीं दी गई। छात्रों को अपने साथ केवल अपने एडमिट कार्ड ले जाने की अनुमति दी गई। यहां तक की छात्रों को हाथ घड़ी पहनकर जाने की भी इजाजत नहीं दी गई। बता दें कि CBSE कक्षा 10वीं की परीक्षाएं 5376 केंद्रों पर आयोजित की जा रही है। वहीं CBSE 12वीं की परीक्षाएं 1883 केंद्रों पर आयोजित की जा रही है।

30 लाख से ज्यादा छात्र, ट्रांसजेंडर भी शामिल

जानकारी के मुताबिक 10वीं की बोर्ड परीक्षाओं में 18 लाख 89 हजार से ज्यादा छात्र-छात्राएं शामिल हो रहे हैं, इनमें 7 लाख 88195 लड़कियां, 11 लाख 1664 लड़के और 19 ट्रांसजेंडर हैं। वहीं कक्षा 12वीं में 12 लाख 6 हजार से ज्यादा बच्चे शामिल हो रहे हैं। इनमें 5 लाख 22819 लड़कियां, 6 लाख 84068 लड़के और 6 ट्रांसजेंडर शामिल हैं।

शहीदों के बच्चों को दी ये विशेष छूट

इस बार की सीबीआई परीक्षाओं में 14 फरवरी 2019 को पुलवामा में हुए हमले के शहीदों के बच्चों को विशेष छूट दी गई है। गौरतलब है कि इससे पहले बोर्ड ने सशस्त्र बलों और अर्द्धसैन्य बलों के शहीदों के बच्चों को विशेष छूट दी थी। इसी तरह इस साल भी CBSE बोर्ड ने सशस्त्र बलों और पैरा मिलिट्री कर्मियों के वार्डों में इस अवधि के दौरान शहीद होने वाले जवानों के बच्चोंं को कई तरह की छूट दी है। इसके तहत ये बच्चे अन्य शहर में परीक्षा केंद्र का परिवर्तन कर सकते हैं। यदि वे किसी कारण प्रैक्टिकल एग्जाम नहीं दे पाए हों तो 2 अप्रैल 2020 तक उन्हें परीक्षा में शामिल होने की अनुमति दी जा रही है। इसके अलावा यदि ये बच्चे बाद में किसी भी विषय में परीक्षा में शामिल होना चाहते हैं, तो उन्हें इसकी अनुमति होगी।

Posted By: Rahul Vavikar

fantasy cricket
fantasy cricket