केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड सत्र 2021-22 के लिए कक्षा दसवीं और बारहवीं के लिए टर्म-1 बोर्ड परीक्षा आयोजित कर रहा है। एग्जाम शुरू होने से ठीक पहले सीबीएसई ने एक घोषणा की। कहा कि बोर्ड अब से टर्म 1 बोर्ड परीक्षा रिजल्ट तैयार करते समय आंसर की पर सब्जेक्ट विशेषज्ञों की प्रतिक्रिया और टिप्पणियों पर विचार करेगा। सीबीएसई ने शुक्रवार को एक अधिसूचना जारी करते हुए कहा कि बोर्ड के तहत आने वाले सभी स्कूलों को प्रश्न पत्र या उत्तर कुंजी के बारे में कोई अवलोकन करना चाहिए।

सीबीएसई की नवीनतम नोटिफिकेशन में कहा गया है, 'हालांकि बोर्ड द्वारा हर संभव देखभाल की जाती है, फिर भी प्रश्नों में कुछ अस्पष्टता या आंसर की में विसंगति की संभावना हो सकती है।' हालांकि, बोर्ड के पास ऐसे मुद्दों को हल करने के लिए एक सुव्यवस्थित प्रणाली है। इसलिए, यह सूचित किया जाता है कि मूल्यांकनकर्ता उन्हें प्रदान की गई उत्तर कुंजी के अनुसार ओएमआर की जांच/मूल्यांकन कर सकते हैं।'

सीबीएसई ने कहा कि अगर स्कूलों को प्रश्न पत्र या उत्तर कुंजी को लेकर कोई समस्या है। तब उसे बोर्ड के पास भेजना होगा। प्राप्त टिप्पणियों या फीडबैक पर रिजल्ट तैयार करते समय विषय विशेषज्ञों की सिफारिश पर विधिवत विचार किया जाएगा, ताकि किसी भी छात्र को कोई नुकसान न हो।

बता दें कि कक्षा 10वीं और 12वीं के लिए सत्र 2021-22 सीबीएसई टर्म 1 बोर्ड परीक्षा का पैटर्न बदल दिया गया है। यह वस्तुनिष्ठ प्रकार के प्रश्नों पर आधारित है। जहां आंसर ओएमआर शीट पर देने हैं। नए पैटर्न के अनुसार एग्जाम के दिन ही ओएमआर शीट का मूल्यांकन किया जाएगा।

Posted By: Shailendra Kumar