CoronaVirus Effect: कोरोना वायरस के चलते जहां स्कूल-कॉलेज और परीक्षाएं प्रभावित हुई हैं, वहीं अब रिजल्ट को लेकर भी चिंता सताने लगी है। रिजल्ट समय घोषित किया जा सके इसलिए परीक्षा कॉपियों के मूल्यांकन को लेकर कदम उठाए जा रहे हैं। विभिन्न राज्यों की सरकारों ने स्कूल बंद होने की स्थिति में निर्देश जारी कर शिक्षकों को वार्षिक परीक्षा के लिए मूल्यांकन का काम घर से करने को कहा है। कुछ ऐसा ही फैसला अब हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड (HBSE) ने भी किया है। HBSE ने शिक्षकों को घर से ही मूल्यांकन कार्य करने के निर्देश दिए हैं। बोर्ड ने परीक्षा मूल्यांकन कार्य में लगे सभी शिक्षकों को निर्देश दिए हैं कि वे 11 अप्रैल 2020 को अपने संबंधित परीक्षा मूल्यांकन केंद्र से उत्तर पुस्तिकाएं घर ले जाएं और 22 अप्रैल तक कॉपियां जांचकर उन्हें दोबारा मूल्यांकन केंद्र पर प्रभारी के पास जमा करा दें। बोर्ड ने ये भी कहा कि मूल्यांकन कार्य में लगे सभी शिक्षकों को बोर्ड की मौजूदा नीति के तहत ही मूल्यांकन के लिए अलग से राशि का भुगतान किया जाएगा।

बता दें कि कोरोना वायरस के खतरे के चलते हरियाणा में स्कूल बंद कर दिए गए हैं। निर्देश के तहत सरकारी और निजी स्कूलों को शिक्षण एवं गैर शिक्षण कर्मचारियों के लिए भी स्कूल 14 अप्रैल तक बंद हैं। हालांकि राज्य में कोरोना महामारी की स्थिति को देखते हुए लॉकडाउन की ये अवधि और बढ़ने की संभावना है।

गौरतलब है कि कोरोना वायरस संक्रमण के कारण HBSE ने बच्चों और शिक्षकों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए 19 मार्च से 31 मार्च 2020 के बीच होने वाली सभी परीक्षाएं स्थगित कर दी थी। इसके बाद राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के चलते परीक्षाओं का आयोजन नहीं किया जा सका। हालांकि HBSE अभी तक शेष बची बोर्ड की परीक्षाओं को लेकर कोई फैसला नहीं कर पाया है। लेकिन जिन विषयों की परीक्षा हो चुकी है उनके पेपरों के मूल्यांकन के लिए बोर्ड ने पहल की है।

Posted By: Rahul Vavikar

  • Font Size
  • Close