CoronaVirus in Maharashtra: कोरोना वायरस महामारी और देशव्यापी लॉकडाउन के कारण फिलहाल सारी गतिविधियां बंद हैं। फिलहाल पूरे देश में 14 अप्रैल 2020 तक लॉकडाउन है और देशभर के स्कूल-कॉलेज में परीक्षाएं स्थगित हैं। इधर महाराष्ट्र में बढ़ते कोरोना के प्रकोप के बाद माना जा रहा है कि यहां यूनिवर्सिटी की परीक्षाएं 15 मई से पहले नहीं हो पाएंगी। प्रदेश के राज्यपाल भगतसिंह कोशयारी के साथ हुई वर्चुअल मीटिंग में सभी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों ने स्वीकार किया कि मौजूदा स्थिति में उनके लिए मई के मध्य से पहले परीक्षाएं आयोजित करना मुश्किल होगा। बता दें कि महाराष्ट्र में लगातार कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं।

महाराष्ट्र के उच्च शिक्षा एवं प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री उदय सामंत हालांकि इससे पहले सभी विश्वविद्यालय प्रमुखों को प्लान बी के तहत फ्रेश एग्जाम शेड्यूल के साथ तैयार रहने के निर्देश दे चुके हैं। हालांकि प्रदेश की मौजूदा स्थिति को देखते हुए लग रहा है कि लॉकडाउन की स्थिति 14 अप्रैल को समाप्त नहीं होगी और इसे आगे बढ़ाया जाएगा।

महाराष्ट्र के तमाम विश्वविद्यालयों के कुलपतियों के ताजा बयान के बाद मंत्री उदय सामंत ने राज्यपाल को बताया कि निकट भविष्य में प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों में परीक्षाएं आयोजित करने के लिए 6 सदस्य पैनल बनाया गया है। इस पैनल में मुंबई, पुणे, कोल्हापुर व SNDT यूनिवर्सिटी के कुलपतियों के अलावा उच्च व तकनीकी शिक्षा विभाग के निदेशक शामिल हैं। उन्होंने ये भी बताया कि ये पेनल प्लान ए और प्लान बी पर काम करेगी। प्लान ए के तहत यदि अप्रैल में लॉकडाउन समाप्त होता है तो परीक्षाएं कब और कैसे आयोजित की जाएंगी, इसकी तैयारी की जाएगी। वहीं प्लान बी के तहत यदि लॉकडाउन बढ़ाया जाता है तो छोट-छोटे समूह में परीक्षाएं कैसे और कब आयोजित की जा सके, इसकी तैयारी होगी।

दरअसल यूनिवर्सिटी के सामने समस्या है कि यदि लॉकडाउन अप्रैल मध्य में समाप्त भी होता है तो वे इतनी बड़ी संख्या में विद्यार्थियों को परीक्षा देने के लिए अनुमति नहीं दे सकते क्योंकि फिलहाल सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना जरुरी होगा। मुंबई यूनिवर्सिटी के कुलपति सुहास पेड़नेकर ने भी इस बात को प्रमुखता से उठाया।

बहरहाल बता दें कि पेनल अगले 2 दिनों में विभिन्न प्लान के साथ अपनी रिपोर्ट राज भवन को सौंपेगी। राज भवन ने प्रदेश की सभी यूनिवर्सिटी को ये भी निर्देश दिया है कि पेनल की रिपोर्ट के मुताबिक तैयार किए गए परीक्षा कार्यक्रम को ही सभी को फॉलो करना होगा।

राज भवन की ओर से जारी निर्देशों के तहत सभी यूनिवर्सिटी को आवश्यकतानुसार इमरजेंसी फंड का उपयोग करने की सलाह दी गई है। यूनिवर्सिटी इस फंड का उपयोग कोविड 19 टेस्टिंग लैब, मास्क निर्माण, सेनेटाइजर निर्माण, मेडिकल किट, कम बजट वाले वेंटिलेटर निर्माण के लिए करने को कहा गया है।

इसके अलावा पब्लिक यूनिवर्सिटी के तहत आने वाले हर जिले को 30 ट्रेंड NSS वॉलिटियर को तैयार रखने को कहा गया है। NSS वॉलिंटियरों की ये टीम कलेक्टर के सपोर्ट के लिए काम करेगी।

गौरतलब है कि महाराष्ट्र में सभी कॉलेज और उच्च शिक्षण संस्थानों में सेमेस्टर, प्रैक्टिकल सहित सभी तरह की परीक्षाएं टाल दी गई है।

Posted By: Rahul Vavikar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना