CoronaVirus Lockdown: कोरोना वायरस महामारी और लॉकडाउन के चलते अब उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद (UP Board) ने अपने यहां के बच्चों को प्रमोशन देने का फैसला किया है। यूपी बोर्ड ने तय किया है कि कक्षा छठी से 9वीं औ 11वीं कक्षा के सभी बच्चों को बिना परीक्षा पास किया जाएगा और उन्हें अगली कक्षा में प्रवेश दिया जाएगा। माध्यमिक शिक्षा विभाग की प्रमुख सचिव आराधना शुक्ला ने इसके संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं। बता दें कि राज्य सरकार और शिक्षा बोर्ड के इस आदेश के बाद करीब 70 लाख विद्यार्थियों को बिना परीक्षा ही अगली कक्षा में प्रवेश मिलेगा।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में यूपी बोर्ड से संबंधित 27 हजार से ज्यादा स्कूल हैं। इनमें 2000 सरकारी और 4500 सहायता प्राप्त स्कूल हैं। बाकी निजी स्कूल हैं। इनके छठी से लेकर 9वीं तक और 11वीं कक्षा तक के बच्चों को प्रमोशन का लाभ मिलेगा। शिक्षा बोर्ड ने कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते प्रकोप के चलते ये फैसला किया है। इसके अलावा अब पूरे देश में 3 मई 2020 तक लॉकडाउन घोषित कर दिया गया है, ऐसे में शेष परीक्षाएं होना संभव नहीं है, ऐसे में बोर्ड ने प्रमोशन का फैसला लिया। इन कक्षाओं के सभी बच्चों को नए शैक्षणिक सत्र से अगली कक्षा में प्रवेश मिलेगा।

बता दें कि ज्यादातर स्कूलों में या तो परीक्षाएं चल रही थी या फिर शुरू होने वाली थी। इतना ही नहीं जहां परीक्षाएं समाप्त हो चुकी थी, वहां मूल्यांकन का काम शुरू होने वाला था। लेकिन 21 दिनों के पहले लॉकडाउन के चलते ये सारे कार्य स्थगित कर दिए गए। अब लॉकडाउन फिर 3 मई 2020 तक बढ़ा दिया गया है। उत्तर प्रदेश में 10वीं व 12वीं बोर्ड परीक्षाओं की कॉपियां भी नहीं जंच पाई हैं, ऐसे में रिजल्ट अटक गया है।

बता दें कि उत्तर प्रदेश बोर्ड पहला ऐसा बोर्ड नहीं है जिसने बच्चों को प्रमोशन देने का फैसला किया है। इससे पहले CBSE, ICSE के अलावा कई राज्यों के स्कूल शिक्षा बोर्ड ने बच्चों को अगली कक्षा में प्रमोशन देने का फैसला किया है। इनमें दिल्ली, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, गुजरात, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, तमिलनाडु, हरियाणा, राजस्थान सहित कई राज्य शामिल हैं।

Posted By: Rahul Vavikar

  • Font Size
  • Close