Exam Alert: देश में तेजी से बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामलों ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय को बड़ी चिंता में डाल दिया है। एचआरडी मंत्रालय ने सीबीएसई और आइसीएसई की बोर्ड की परीक्षाओं की तारीख का ऐलान तो कर दिया, लेकिन कोरोना वायरस इसी गति से बढ़ता रहा तो परीक्षाएं आयोजित करना खतरे से खाली नहीं होगा। इस बीच, बड़ी संख्या में माता-पिता और छात्र परीक्षाएं स्थगित की मांग कर रहे हैं। बता दें परीक्षाओं को अब सिर्फ दो हफ्ते ही बाकी हैं। दिल्ली, मुंबई, अहमदाबाद, इंदौर जैसे प्रमुख शहरों में स्थिति चिंताजनक बनी हुई है। ताजा खबर है कि आगे का फैसला लेने के लिए एचआरडी ने स्वास्थ्य तथा गृह मंत्रालय को पूरी जानकारी देते हुए राय मांगी है।

जुलाई में जो परीक्षाएं प्रस्तावित हैं उनमें 10वीं, 12वीं की CBSE और आईसीएसई की बोर्ड की परीक्षाओं के साथ विश्वविद्यालयों की भी परीक्षाएं शामिल हैं जो 1 जुलाई से होना हैं। इसके साथ ही नीट और जेईई मेंस की भी परीक्षाएं जुलाई में ही होना हैं। मौजूदा प्लान के तहत नीट की परीक्षा 26 जुलाई को और जेईई मेंस की 18 से 23 जुलाई के बीच होना है। ऐसे में प्रश्न है कि यदि कोरोना वायरस इसी तरह गति से बढ़ता रहा तो परीक्षाएं कैसे हो पाएंगी।

पढ़िए क्या है अधिकांश अभिभावकों की राय

इस सब के बीच छात्रों और परिजनों की ओर से परीक्षाओं को स्थगित करने की मांग भी तेज हो गई है। अभिभावकों की कहना है कि वह बच्चों की सुरक्षा को खतरे में डालकर परीक्षाएं नहीं चाहते। कुछ अभिभावकों ने इसे लेकर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा भी खटखटाया है। हालांकि मंत्रालय ने भी साफ किया है कि उसके लिए भी छात्रों की सुरक्षा पहली जिम्मेदारी है। ऐसे में वह कोई भी कदम उठाने से पहले छात्रों की सुरक्षा जरूर सुनिश्चित करेगा। इसके चलते फिलहाल सारे जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं।

20 जून के बाद निर्णय संभव

मंत्रालय से जुड़े वरिष्ठ अधिकारियों के मुताबिक जुलाई में प्रस्तावित परीक्षाओं को लेकर वह तैयारियों को अंतिम रूप दे रहे हैं। इसके तहत 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं को सेल्फ सेंटर की व्यवस्था के तहत छात्रों के पढ़ने वाले स्कूलों में ही कराने की घोषणा की गई है। साथ ही पांच हजार की जगह अब 13 हजार परीक्षा सेंटर बनाने को मंजूरी दी गई है। यह सारे कदम छात्रों की सुरक्षा को ध्यान में रखकर ही उठाए गए हैं। बावजूद इसके कोई भी अंतिम फैसला 20 जून तक की संक्रमण की स्थिति को देखते हुए ही लिया जाएगा।

Posted By: Arvind Dubey

  • Font Size
  • Close