व्यक्तिगत यानी प्राइवेट परीक्षार्थियों के लिए कक्षा 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं 16 अगस्त से 15 सितंबर तक आयोजित की जाएंगी। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने इस बारे में परीक्षा का शेड्यूल जारी किया है। सीबीएसई के परीक्षा नियंत्रक संयम भारद्वाज ने कहा, ‘‘परीक्षाएं 16 अगस्त से 15 सितंबर तक आयोजित की जाएंगी और उनका परिणाम भी जल्द से जल्द समय में घोषित किया जाएगा ताकि उन्हें उच्च शिक्षा में प्रवेश में कोई कठिनाई न हो।’’

वैसे इस बारे में सवाल उठ रहे हैं कि जब नियमित छात्रों के लिए परीक्षाएं नहीं हो रही हैं, तो सिर्फ प्राइवेट छात्रों के लिए महामारी के इस दौर में परीक्षाएं क्यों आयोजित की जा रही हैं? इस मुद्दे को लेकर बुधवार को व्यक्तिगत अभ्यर्थियों के एक समूह ने सीबीएसई मुख्यालय के बाहर असमानता का आरोप लगाते हुए विरोध प्रदर्शन भी किया। उधर बोर्ड ने नियमित छात्रों के लिए वैकल्पिक मूल्यांकन नीति के आधार पर ही प्राइवेट छात्रों के परिणाम घोषित करने से साफ इंकार कर दिया है।

CBSE बोर्ड के मुताबिक प्राइवेट छात्रों का न तो स्कूलों और न ही सीबीएसई के पास कोई पिछला मूल्यांकन रिकॉर्ड है। वहीं नियमित छात्रों के लगातार टेस्ट और पिछली क्लास की तिमाही परीक्षाएं हुई हैं। इसलिए उनका मूल्यांकन पिछली कक्षाओं के प्रदर्शन के आधार पर किया जा सकता है। लेकिन प्राइवेट छात्रों का इस तरह कोई रिकॉर्ड नहीं है, इसलिए इनके साथ वैकल्पिक मूल्यांकन नीति लागू नहीं हो सकती। इसके अलावा ये मामला अदालत में गया था। उसके बाद ही प्राइवेट छात्रों के लिए लिखित परीक्षाएं आयोजित करने और उसके आधार पर रिजल्ट जारी करने का फैसला हुआ।

सीबीएसई के परीक्षा नियंत्रक संयम भारद्वाज ने कहा, " यूजीसी और सीबीएसई सभी छात्रों के भविष्य को ध्यान में रख फैसले ले रहे हैं। इन छात्रों के नतीजे आने के बाद ही पिछले साल की तरह एडमिशन की प्रक्रिया शुरु होगी। "

Posted By: Shailendra Kumar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags