नई दिल्ली। कोरोना महामारी के कारण अर्थव्यवस्था को बड़ा झटका लगा है। ऐसे में सरकार द्वारा समर्थिक स्मार्टफोन स्मार्टफोन इंडस्ट्री में दिसंबर तक 50000 से अधिक नौकरियों के उत्पादन की संभावना है। फॉक्सकॉन, विस्ट्रॉन, सैमसंग, डिक्सन और लावा जैसे कई देशी और अंतरराष्ट्रीय मोबाइल फोन निर्माता कंपनियों सरकार की प्रोडक्शन-लिंक्ड इंसेंटिव (पीएलआई) के तहत उत्पादन क्षमता बढ़ाने पर विचार कर रही है और दिसंबर तक 50000 से ज्यादा नौकरियों के अवसर उपलब्ध कराएंगी।

इंडिया सेल्युलर एंड इलेक्ट्रॉनिक्स एसोसिएशन के अध्यक्ष पंकज मोहिन्द्रू ने कहा कि स्मार्टफोन इंडस्ट्री में 1100 फीसदी की बढ़ोतरी देखी गई है। इस दौरान घरेलू मांग की आपूर्ति सुचारू रूप से की गई, वहीं निर्यात को भी बढ़ावा दिया गया। मोहिन्द्रू ने कहा कि स्मार्टफोन इंडस्ट्री में विस्फोटक बढ़ोतरी देखने को मिली है। ऐसे में उद्योग को दिसंबर-अंत तक लगभग 50,000 प्रत्यक्ष नौकरियों देने की पूरी उम्मीद है।

इंडिया सेल्युलर एंड इलेक्ट्रॉनिक्स एसोसिएशन ने कोविड -19 संकट के बाद मोबाइल निर्माण पर अपनी रिपोर्ट में कहा है कि 2014-19 की अवधि के दौरान 1,100% वृद्धि हासिल की गई थी। गौरतलब है कि भारत ने जून में देश में इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण को बढ़ावा देने के लिए 50,000 करोड़ रुपए की 'इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण योजनाएं' शुरू की।

Posted By: Sandeep Chourey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस