MP Board 10th Result 2020 : भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। लगन और एकाग्रता के साथ किया गया कठिन परिश्रम सफलता की कुंजी है। यदि बात विषम परिस्थितियों से उपजे हालातों से संघर्ष की हो तो यह सफलता ही दूसरों के लिए आदर्श बन जाती है। ऐसी ही कठिन परिस्थितियों में भोपाल की कर्णिका मिश्रा ने माध्यमिक शिक्षा मंडल की 10वीं बोर्ड परीक्षा में शत प्रतिशत अंक प्राप्त किए हैं। शहर का नाम रोशन करने वाली कर्णिका के परिवार की आर्थिक स्थिति इतनी खराब है कि पढ़ाई का खर्च तो दूर बल्कि जीवन यापन भी बड़ी मुश्किलों से हो पाता है। लेकिन कर्णिका के हौसले और संघर्ष ने सफलता के आसमान को छू लिया।

शहर के सेमरा क्षेत्र में रहने वाली कर्णिका की परवरिश मां और नानी ने की है। पांच साल पहले सड़क हादसे में कर्णिका ने अपने पिता को खो दिया। इसके बाद कर्णिका की मां स्वाति मिश्रा पर परिवार के भरण-पोषण की जिम्मेदारी आ गई। वे निजी कंपनी में नौकरी कर परिवार की जरूरतों को पूरा करने में लगी रही। नानी पुष्पा द्विवेदी ने ही कर्णिका की देखभाल की।

फीस भरने पैसे नहीं थे, स्कूल प्रबंधन ने की मदद

कर्णिका की नानी पुष्पा ने बताया कि खराब पारिवारिक परिस्थितियों के चलते कर्णिका की पढ़ाई जारी रख पाना भी मुश्किल था। किताबें, ट्यूशन तो दूर बल्कि स्कूल की फीस के लिए तक पैसे नहीं थे, लेकिन कर्णिका की लगन और मेहनत को रीमा विद्यामंदिर उ.मा.विद्यालय ने पहचाना और साल भर की लगने वाली करीब 10 हजार रुपये की फीस माफ कर दी। स्कूल संचालक श्याम पाठक ने बताया कि छठवीं कक्षा से कर्णिका की फीस माफ करने का निर्णय प्रबंधन ने लिया था।

अंकों के लिए नहीं ज्ञान के लिए पढ़ाई की

नवदुनिया से बातचीत के दौरान कर्णिका ने बताया कि उन्हें 90 प्रतिशत अंकों की उम्मीद थी। जैसे ही परीक्षा परिणाम सामने आए तो वह चौंक गई। कर्णिका बताती हैं कि वह अंकों की दौड़ पर विश्वास नहीं करतीं। बल्कि ज्ञान के लिए नियमित तौर पर सुबह-शाम दो से तीन घंटे तक पढ़ाई की। परीक्षा के वक्त भी उन्होंने नियमित दिनचर्चा पर पढ़ाई का बोझ नहीं लादा। साथ ही तनाव कम करने के लिए पढ़ाई के लिए एक-एक घंटे में कटौती भी की। उन्होंने इस सफलता का श्रेय स्कूल प्रबंधन व शिक्षकों को दिया है।

पीएससी में टॉप करने का लक्ष्य

कर्णिका बताती हैं कि 11 वीं कक्षा में पीसीएम (भौतिक शास्त्र, रसायान शास्त्र व गणित) विषय से आगे की पढ़ाई करेंगी। फिलहाल उन्होंने पीएससी (लोक सेवा आयोग) की परीक्षा में टॉप करने का लक्ष्य निर्धारित किया है। उन्होंने कहा कि आगे की शिक्षा भी अंकों के लिए नहीं बल्कि ज्ञान के लिए ही प्राप्त करेंगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020