केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने आज (गुरुवार) बड़ा फैसला लिया है। अब शिक्षक पात्रता परीक्षा (TET) योग्यता प्रमाणपत्र जीवनभर के लिए मान्य रहेगा। इससे पहले सर्टिफिकेट की मान्यता सिर्फ सात सालों के लिए रहती थी। शिक्षा मंत्री ने कहा कि सरकार ने शिक्षक पात्रता परीक्षा योग्यता प्रमाणपत्र की वैधता सात वर्ष से बढ़ाकर आजीवन करने का निर्णय लिया है। यह आदेश 2011 से प्रभावी होगा। जिन अभ्यर्थियों के प्रमाणपत्र की सात साल की अवधि खत्म हो गई है, उन्हें नया टीईटी प्रमाणपत्र जारी करने के लिए संबंधित राज्य सरकारें और केंद्र शासित प्रदेश जरूरी कदम उठाएंगे।

उन्होंने कहा कि जो अभ्यर्थी शिक्षा के क्षेत्र में करियर बनाना चाहते हैं, उनके लिए सरकार के इस कदम से रोजगार के अवसरों में वृद्धि होगी। उल्लेखनीय है कि स्कूल में शिक्षक बनने के लिए टीईटी प्रमाणपत्र आवश्यक योग्यताओं में एक है। नेशनल काउंसिल फार टीचर एजुकेशन (एनसीटीई) ने 11 फरवरी, 2011 को जारी अपने दिशा-निर्देश में कहा था कि टीईटी का संचालन राज्य सरकारों द्वारा किया जाएगा और इसकी वैधता पास होने की तारीख से सात वर्षों के लिए होगी।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags