Monsoon Fungal Infections: हम में से अधिकतर लोगों को मानसून बड़ा ही पसंद होता है। मानसून में लोगों को काफी राहत मिलती है। लेकिन हमें इस बात को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए कि मानसून अपने साथ कई तरह की बीमारियां लेकर भी आता है। आप में से बहुत से लोगों को बारिश में भिगना बहुत पसंद होता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इससे आपको कई तरह के फंगल इंफेक्शन हो सकते हैं। पैरों में बदबू, दाद, नाखूनों में फंगस इस प्रकार मानसून से जुड़े कई तरह के फंगल इंफेक्शन हो सकते हैं। आपको उन इंफेक्शन के बारे में जानकारी होनी चाहिए। साथ ही उनसे बचने के उपाय भी पता होने चाहिए। आज हम आपको मानसून के दौरान होने वाले फंगल इंफेक्शन और उनकी देखभाल की कुछ टिप्स बताने जा रहे हैं।

खुजली

मानसून के समय में एक्जिमा का बड़ा प्रकोप होता है। यह नम त्वचा, नमी और बैक्टीरिया के बनने से हो सकता है। यदि आपको पहले भी सेबोरहाइक एक्जिमा या सेबोरहाइक डर्मेटाइटिस हो चुका है तो आपको बारिश के पानी में भीगने से बचना चाहिए। यदि आप अपनी त्वचा में किसी भी तरह का इंफेक्शन देखते हैं तो त्वचा को राहत देने के लिए सबसे पहले नारियल का तेल लगाएं। ऐसी स्थिति में आप अपनी त्वचा पर एंटी फंगल मॉइस्चराइजर भी लगा सकते हैं।

Follow These Home Remedies For Ringworm, Itching, You Will Get Instant  Relief | Do

एथलीट फुट

यदि आपके भी पैरों में पसीने की समस्या है। आपके भी पैर जूते या मोजे पहनने के बाद नम हो जाते हैं तो आपको एथलीट फुट से सावधान रहने की बहुत जरूरत है। यह एक नॉर्मल इंफेक्शन है जो कि विशेष रूप से पैरों की उंगलियों के बीच होता है। यदि आप बारिश में भीग जाते हैं तो तुरंत अपने जूते हटा दें और चप्पल पहन लें। ताकि आपके पैरो में नमी फंस न जाए। इससे आपको फंगल इंफेक्शन हो सकता है। एथलीट फुट के शुरुआती लक्षण में खुजली के साथ चुभने वाली सनसनी होती है।

पैरों में होने वाले इन्फेक्शन को घरेलु तरीकों से करें दूर | NewsTrack Hindi  1

दाद

दाद भी एक मानसून संक्रमण है जो कि मुख्य रूप से पैरों, गर्दन और बगल में होता है। ऐसा गीले कपड़े पहनने की वजह से हो सकता है। दाद को रोकने के लिए आप ढीले और आरामदायक कपड़े पहने जिससे हवा का आवागमन हो सके। वहीं अपने कपड़े धोते समय उसमें कुछ कीटाणुनाशक भी डाल दें। दाद से राहत पाने के लिए एंटिफंगल क्रीम का इस्तेमाल करें और पाउडर लगाएं। त्वचा को खरोंचें नहीं इससे संक्रमण और भी बढ़ सकता है। और साथ ही एक स्थायी निशान भी छोड़ सकता है।

खुजली दूर करने के बेहतरीन घरेलु उपाय – How To Treat Skin Itching In Hi –  SkinKraft

नाखून फंगल इंफेक्शन

मानसून में ज्यादातर लोगों को नेल फंगल इंफेक्शन हो जाता है। मानसून के दौरान नाखूनों की सफाई करनी बहुत जरूरी है। नाखूनों में फंसी गंदगी उन बैक्टीरिया को आमंत्रित करती हैं। जो नाखून में इंफेक्शन के कारण बनते हैं। एथलीट फुट भी नाखून संक्रमण में फैलता है। यदि आपको एथलीट फुट हो जाता है तो आपको अपने नाखूनों को काटकर साफ करना चाहिए ताकि फंगल नेल इन्फेक्शन से बचा जा सके।

Artificial nails and diabetes increase fungal infection | नाखूनों के टूटने,  पकने और बदलते रंग की वजह है फंगल इंफेक्शन, इन गलत आदतों और बीमारियों से  होती है समस्या ...

टिनिया कैपिटिस

टिनिया कैपिटिस एक ऐसा फंगल इंफेक्शन है जो सिर पर होता है। यह दाढ़ी, भौहें और पलकों तक भी फैल सकता है। यह फंगल इंफेक्शन बालों के रोम में होता है जिसके बाद वह स्कैल्प में फैल जाता है। बाकी फंगल इंफेक्शन से अलग यह इंफेक्शन हेयर केयर और ब्यूटी प्रोडक्ट्स को एक-दूसरे से शेयर करने पर भी एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकता है। इससे बचने के लिए अपने बालों को नियमित रूप से किसी अच्छे एंटी बैक्टीरियल या एंटीफंगल हेयर क्लींजर से शैम्पू करना चाहिए। फंगल इंफेक्शन को नियंत्रित करने के लिए सैलिसिलिक एसिड युक्त उत्पादों का उपयोग करें। इस इंफेक्शन के प्रभाव को कम करने के लिए तौलिये, कंघी, तकिए या अन्य कोई बालों के उपयोग में आने वाली वस्तु को किसी और के साथ साझा करने से बचें। यदि फिर भी आपको फंगल इंफेक्शन से जुड़ी कोई समस्या रहती है तो त्वचा विशेषज्ञ की सलाह जरुर लें।

Cacar Air Di Kepala Rambut - ModelRambutPria.com

Posted By: Sandeep Chourey

  • Font Size
  • Close