शोध में भी स्पष्ट हुआ है कि हर साल विश्व में 70 फीसदी लोगों को दौड़ने के दौरान इंज्यूरी होती है। इसलिए दौड़ना अगर जरूरी है, तो इस दौरान सावधानी बरतना भी उतना ही जरूरी है। आइए जानते हैं दौड़ने के दौरान बरती जाने वाली सावधानियां:

- यदि आप दौड़ना शुरू कर रहे हैं, तो धीमी गति से दौड़ने से शुरुआत करें। आप चाहें तो टहलने एवं दौड़ने का काम बारीबारी से कर सकते हैं।

- हर सप्ताह आप अपनी दौड़ने की दूरी को 10 प्रतिशत से अधिक न बढ़ाएं।

- एक सप्ताह में 45 मील दौड़ना सेहतमंद माना गया है। इस बात के प्रमाण काफी कम हैं कि दौड़ते हुए ज्यादा दूरी तय करने से सेहत अच्छी होती है। बल्कि ऐसा करने से इंज्यूरी को जोखिम बढ़ जाता है।

- ऊबड़-खाबड़ या ऊंची-नीची जमीन पर दौड़ने से बचना चाहिए। समतल जमीन पर दौड़ना अच्छा माना जाता है।

- यदि पैरों में या घुटनों में दर्द हो तो दौड़ने से बचना चाहिए। दर्द का मतलब है कि आपके पैर में कोई परेशानी है और इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए।

- हर 500 मील के बाद अपने जूते बदल लें।ऐसा माना जाता है कि इतनी दूरी तय करने के बाद जूतों में दबाव सहने की क्षमता खत्म हो जाती है।

- यदि आप दौड़ते हैं, तो स्ट्रेचिंग और स्ट्रेंथेनिंग एक्सरसाइज करना बेहद जरूरी है। ऐसा करने से आप इंज्यूरी से बचे रह सकते हैं। फिटनेस एक्सपट्‌र्स का कहना है कि आप तब तक स्ट्रेच करें, जब तक पैरों में तनाव महसूस हो, लेकिन जैसे ही दर्द होने लगे, स्ट्रेचिंग रोक दें।

- व्यायाम के प्रति ईमानदार रहें और नियमित रूप से करते रहें। हर व्यायाम के तीन सेट करें और हर सेट में 10 बार व्यायाम को दोहराएं। दोनों पैरों के लिए एक समान व्यायाम करें। आप चाहें तो एंकल वेट को भी एक्सरसाइज का हिस्सा बना सकते हैं, जिससे आपकी रूटीन आसान हो जाएगी।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags