Health News : भोजन की अनियमितता और गलत भोजन, हाई ब्लड प्रेशर, संक्रमण, एक्सरसाइज की कमी और धूम्रपान या जन्मगत विकार अकसर दिल की बीमारियों और यहां तक कि Heart Attack के कारण बनते हैं, लेकिन इन आम कारणों के अलावा कई बार कुछ ऐसे भी कारण हृदय संबंधी समस्याओं की वजह बन सकते हैं जिनके बारे में आपने सोचा न हो। ये कुछ विशेष स्थितियां हैं जो असल में कई बार गंभीर बनकर सामने आ सकती हैं। दिल के स्वास्थ्य पर इन सबके अलावा अचानक बहुत अधिक खुशी या दुख मिलना, किसी हादसे जैसे भूकंप का आना, किसी प्रतियोगिता के दौरान उत्तेजना का बढ़ जाना या शराब ही नहीं कॉफी की भी लत भी हृदय के लिए खतरा पैदा कर सकती है।

कार, ट्रेन और गाड़ियां

बात चाहे थोड़ी अजीब लगे लेकिन ट्रैफिक का शोर या यात्रा के दौरान होने वालाशोर आपके दिल की धड़कनों को बढ़ा सकता है। शोध की मानें तो इससे आपका ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है और कुछ मामलों में हार्ट फेलियर तक की स्थिति बन सकती है। यह याद रखें कि शोर में होने वाली हर 10 डेसीबल की बढ़ोतरी, हृदय रोग और स्ट्रोक की आशंका को बढ़ा सकती है। इसी तरह वायु प्रदूषण का स्तर ऊंचा होने से भी हार्ट अटैक की स्थिति बन सकती है। वे लोग जो रोज बड़ी मात्रा में प्रदूषित हवा फेफड़ों से अंदर ले जाते हैं उनमें धमनियों में ब्लॉक होने या अन्य हृदय रोग होने की आशंका कई गुना बढ़ जाती है। वे लोग जो रोज ट्रैफिक जाम में फंसते हैं उनमें यह आशंका और भी बढ़ जाती है क्योंकि यहां प्रदूषित वायु के साथ साथ जाम में फंसने का गुस्सा, चिड़चिड़ाहट, फ्रस्ट्रेशन आदि भी उभरने लगता है। ऐसे में हृदय को गंभीर नुकसान पहुंच सकता है। खासकर उन लोगों के लिए जो पहले से किसी अनियमितता से गुजर रहे हैं।

अपर्याप्त नींद

रोजाना अगर नींद की कमी होगी तो व्यक्ति दिनभर उनींदा, चिड़चिड़ा और थका हुआ महसूस करेगा। इससे हार्ट अटैक की आशंका भी बढ़ सकती है। एक शोध के अनुसार वे लोग जो रोजाना 6 घंटे से भी कम समय सोते हैं उन्हें रोज 6-8 घंटे सोने वालों की तुलना में हार्ट अटैक का दोगुना खतरा होता है। विशेषज्ञ मानते हैं कि नींद की कमी से ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है और शरीर में अंदरूनी इन्फ्लेमेशन यानी सूजन का खतरा भी बढ़ सकता है जो दिल पर बुरा असर डालता है।

Posted By: Sonal Sharma

fantasy cricket
fantasy cricket