Back Pain in Youth: ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोरोना महामारी ने कई प्रकार से लोगों के जीवन पर प्रभाव डाला है। संक्रमण की स्थिति में एक तरफ जहां गंभीर रोगों के कारण लोगों को अस्पतालों में भर्ती होना पड़ा, कुछ लोगों में गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं भी देखी गई। इसी क्रम में कोविड के बाद से लोगों में पीठ दर्द की समस्या भी काफी बढ़ी है। इसमें अधिकतर युवा शामिल है, इनके पीठ के निचले हिस्से में दर्द की समस्या आ रही है। इसमें ज्यादातर लोग वो हैं जो लंबे समय से वर्क फ्रॉम होम मोड में काम कर रहे हैं। लोगों में शारीरिक निष्क्रियता भी बढ़ गई है!

स्ट्रेचिंग के लिए त्रिकोणासान कारगर

त्रिकोणासान मुद्रा, पीठ और पैरों को मजबूत करने के लिए सबसे अच्छे अभ्यासों में से एक है। पैरों से लेकर पीठ तक की सभी बड़ी मांसपेशियों की स्ट्रेचिंग करने में और कमर दर्द को दूर करने तक में इसके अभ्यास से विशेष लाभ पाया जा सकता है। त्रिकोणासान को सामान्यतौर पर योगासन की वार्मअप पोज के रूप में जाना जाता है जो शरीर की जकड़न को कम करने के साथ रक्त संचार को बढ़ावा देने के लिए काफी फायदेमंद है।

अधोमुख शवासन योग लाभकारी

अधोमुख शवासन उन क्लासिक योग मुद्राओं में से एक है जिससे पूरे शरीर की बेहतर तरीके से स्ट्रेचिंग हो जाती है। यह बैक एक्सटेन्सर को लक्षित करने में मदद करती है, यह पीठ के निचले हिस्से की बड़ी मांसपेशी है। रीढ़ को ठीक रखने के साथ, शारीरिक मुद्रा को बेहतर बनाने, सिर में रक्त संचार को ठीक करने और पैरों-पीठ के दर्द को कम करने में भी इस योग के अभ्यास से लाभ पाया जा सकता है।

Posted By: anil tomar

  • Font Size
  • Close