Bad cholesterol in Body: ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। शरीर में जब बैड फैट लिपिड्स और ट्राइग्लिसराइड की मात्रा बढ़ने से कोलेस्ट्रॉल बढ़ता है। ये जिद्दी फैट लिपिड्स और ट्राइग्लिसराइड के छोटे-छोटे मॉलिक्यूल रक्त कोशिकाओं की दीवारों पर जा कर चिपक कर रक्त संचार को प्रभावित करने लगते हैं। इससे दिल पर प्रेशर पड़ता है और दिल की बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। ऐसी स्थिति में अगर आप अपने दैनिक जीवन में इन दो जूस को शामिल करते है तो ये बैड फैट लिपिड्स और ट्राइग्लिसराइड को शरीर से आसानी से बाहर करने में मदद करेंगे।

अनार-आंवला जूस

अनार और आंवला का जूस, हाई कोलेस्ट्रॉल में काफी फायदेमंद हो सकता है। अनार और आंवला, दोनों ही एंटीऑक्सीडेंट गुण से भरपूर हैं। अनार में हाई एंटीऑक्सीडेंट गतिविधि वाले कैटेचिन हैं जो कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करते हैं। इसके अलावा आंवले का विटामिन सी ब्लड सेल्स को डिटॉक्स कर सकता है।

टमाटर का जूस

टमाटर के जूस का सेवन भी हाई कोलेस्ट्रॉल में फायदेमंद हो सकता है। विशेषज्ञों की मानें तो रोजाना 400 मिली टमाटर का जूस पीने से कुल कोलेस्ट्रॉल 5.9% और एलडीएल कोलेस्ट्रॉल 12.9% कम हो सकता है। यह शरीर में कोलेस्ट्रॉल कम करने और ट्राइग्लिसराइड और लिपिड मॉलिक्यूल को बाहर निकालने में मददगार साबित हो सकता है।

नीबू भी करता कम बेड कोलेस्ट्राल को

नींबू में मौजूद घुलनशील फाइबर खाने की थैली से बैड कोलेस्ट्रॉल को रक्त प्रवाह में जाने से रोक देते हैं। इसमें पाया जाने वाला विटामिन—सी रक्तवाहिका नलियों की सफाई करता है और इस तरह बैड कोलेस्ट्रॉल पाचन तंत्र के माध्यम से शरीर से बाहर निकल जाता है।

ऐसे भी कम कर सकते हैं बेड कोलेस्ट्राल का

बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए आपको अपनी लाइफस्टाइल और खान पान में बदलाव करना होगा। इसके लिए आप अपनी डाइट में साबुत अनाज, दाल, बीन्स, हरी सब्जियों, फल जैसे सेब, केला, संतरा, नाशपाती आदि को शामिल करें। आप अगर नॉन वेज खाते हैं तो मछली का सेवन कर सकते हैं. फिश ओमेगा 3 फैटी एसिड से भरपूर होती है।

Posted By: anil tomar

  • Font Size
  • Close