Festive Season Food alert । भारत में त्योहारों के सीजन में हर किसी के घर में टेबल हमेशा स्वादिष्ट व्यंजनों से भरा होता है और जब आंखों में सामने लजीज व्यंजन हो तो मन पर काबू नहीं रहता है और त्योहारी सीजन में डाइट ज्यादा हो जाती है। ऐसे में सभी के मन में यह सवाल में जरूर होता है कि त्योहारी सीजन में बनने वाले स्वादिष्ट व्यंजन को कितना खाना चाहिए। इन व्यंजनों में कितनी कैलोरी होती है और यदि ज्यादा खा भी लिया है तो फिर उसके बाद कितनी देर तक एक्सरसाइज करना होगी। वहीं कुछ लोग ऐसे भी रहते हैं तो त्योहारी सीजन में भी वजन बढ़ने के डर से सभी त्योहारी खाद्य पदार्थों से परहेज करने की हद तक चले जाते हैं।

त्योहारों में ऐसे उठाएं व्यंजनों का लुत्फ

सबसे पहली बात तो यह है कि त्योहार व्यंजनों का मजा लेने के होते हैं और इसलिए त्योहारी सीजन में मिठाइयों या पकवानों से सेवन से ज्यादा डरना नहीं चाहिए। इन सेवन जरूर करना चाहिए लेकिन संतुलित मात्रा में। सेलिब्रिटी न्यूट्रिशनिस्ट रुजुता दिवेकर का मानना है कि त्योहारों के 4-5 दिनों के दौरान भोजन का आनंद लेने से अचानक वजन नहीं बढ़ता है। लेकिन यदि आप उसी तरह की चीजें रोज सालभर खाएंगे तो फिर वजन जरूर बढ़ेगा। लेकिन त्योहारों के सीजन में बाहर खाने से बचना चाहिए क्योंकि इस दौरान मिलावटी चीजों की बिक्री ज्यादा होने लगती है।

अपना भोजन करना न छोड़े

त्योहारी सीजन में अक्सर यह भी देखने में आता है कि लोग अपना नियमित भोजन करना छोड़ देते हैं। ऐसा करना फायदेमंद नहीं हो सकता है। दरअसल लोग डाइट करने के पीछे यह सोचते हैं कि त्योहारी सीजन में अच्छे से खाएंगे इसलिए अभी डाइट कर लेते हैं। शरीर में कैलोरी को इस तरह से संतुलित करना किसी भी हालत में उचित नहीं है क्योंकि जब आप त्योहारी सीजन में खाना शुरू करेंगे तो यह रणनीति उल्टी भी पड़ सकती है और आप हो सकता है उस समय तय मात्रा से ज्यादा कैलोरी व वसायुक्त भोजन कर लें। ऐसे में दिवेकर की सलाह है कि इस प्रकार की अनियमित डाइटिंग करने के बजाय रोज खाना खाना चाहिए और रोज अपना सामान्य व्यायाम जरूर करना चाहिए। मुख्य भोजन के लिए केवल 2 स्टार्टर व्यंजन और एक रेगुलर आइटम ही लेना चाहिए। आइसक्रीम आदि के सेवन से बचना चाहिए।

खुद को मिठाइयों के प्रति न रोकें लेकिन ये रखें सावधानी

त्योहारी सीजन में मीठा ज्यादा बनता है और इसके प्रति भी थोड़ी सावधानी जरूर रखनी चाहिए। यदि आपको डायबिटीज या अन्य कोई गंभीर बीमारी नहीं हैं तो सामान्य मीठे का सेवन कर सकते हैं। घर पर बनी मिठाइयां शरीर को लिए ज्यादा नुकसानदायक नहीं होती है।

दीवाली के दौरान इन बातों की भी रखें सावधानी

- पनीर, दूध, खोवा आदि खाद्य पदार्थ खरीदते समय विशेष ध्यान रखें और ऐसे खाद्य पदार्थों को पैकेट के साथ ही लें। एक्सपायरी डेट भी चेक करें। इससे आप मिलावटी सामान की चपेट में आने से बचेंगे।

- दिवाली के मौके पर ढेर सारी मिठाइयां, चॉकलेट और व्यंजन आदि खाने से शरीर का वजन बेवजह बढ़ जाता है। त्योहार के समय में भी अपने खानपान पर नियंत्रण रखने की जरूरत है। साथ ही रोज व्यायाम भी जरूर करें।

- दिवाली पर संतुलित आहार लेते रहना चाहिए। ऐसा करने से आप त्योहारों पर बनने वाली मिठाइयां व वसायुक्त भोजन का सेवन कम करेंगे। हार्ड ड्रिंक, कोक आदि न लेकर फलों का ज्यूस लेना चाहिए। सब्जियों का जूस भी ले सकते हैं, यह हेल्दी और टेस्टी होता है।

- एक बार में भर पेट नहीं खाना चाहिए, बल्कि थोड़े-थोड़े अंतराल पर खाना खाते रहना चाहिए। त्योहार के समय में सादा खाना खाने की बजाय घरों में ज्यादा व्यंजन बनते हैं, ऐसे में आटे में जौ, बाजरे का आटा और गेहूं का आटा मिला लें, यह हेल्दी भी रहेगा और आपको फिट भी रखेगा।

- दीपावली पर खाली पेट नींबू पानी का सेवन करें, इससे शरीर में मौजूद विषैले तत्व भी आसानी से निकल जाएंगे। खाने में सलाद, फल आदि का सेवन करेंगे तो आपका आहार भी संतुलित रहेगा।

Posted By: Sandeep Chourey