Health Benefits of Kiwi: दिखने में और पोषक तत्वों के मामले में कीवी कोई साधारण फल नहीं है। कीवीफ्रूट के रूप में भी जाना जाता है, वे न्यूजीलैंड सहित दुनिया के लोकप्रिय क्षेत्रों में उगाए जाते हैं जो इस फल का शीर्ष उत्पादक है। कीवी में पोटैशियम, कॉपर, विटामिन के, फोलेट और विटामिन ई होता है, जो वसा में घुलनशील पोषक तत्व होता है जिसमें एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव होता है और यह प्रतिरक्षा स्वास्थ्य में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। वे कैलोरी, प्रोटीन और वसा में कम हैं और फाइबर का अच्छा स्रोत हैं। कीवी में मीठा, तीखा स्वाद होता है जो पूरे शरीर को ताजगी देता है। आमतौर पर सर्दियों के मौसम में इनका आनंद लिया जाता है, और इसके स्वस्थ लाभों के लिए आप इसे अपने दैनिक आहार में शामिल कर सकते हैं। इस मौसम में आपको यह विदेशी फल क्यों खाना चाहिए, इसके कुछ कारण यहां दिए गए हैं।

सर्दियों में कीवी फल खाने के 5 कारण:

फाइबर का अच्छा स्रोत: विदेशी फल फाइबर से भरपूर होते हैं जो उच्च कोलेस्ट्रॉल जैसी कई बीमारियों को रोकने में मदद करते हैं, रक्तचाप को कम करते हैं और रक्त शर्करा के स्तर का प्रबंधन करते हैं। यह वजन कम करने को भी बढ़ावा देता है और हृदय रोगों के जोखिम को कम करता है।

पाचन में भी सहायक: कीवी में एंजाइम नामक एक घटक होता है जो शरीर में प्रोटीन के पाचन में मदद करता है और पुरानी कब्ज से पीड़ित रोगियों की मदद करने के लिए जाना जाता है।

विटामिन सी का उच्च स्रोत: अगर आपने अभी सोचा है कि संतरे और नींबू विटामिन सी के उच्च स्रोत हैं तो आप पूरी तरह से गलत हैं। इसमें 154 प्रतिशत विटामिन सी होता है, जो नींबू और संतरे से लगभग दोगुना है। इस प्रकार, विटामिन सी प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने में मदद करता है, एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट के रूप में कार्य करता है और त्वचा के साथ-साथ बालों के लिए भी फायदेमंद होता है।

नींद की अच्छी गुणवत्ता सुनिश्चित करता है: कीवी में सेरोटोनिन होता है, जो आपके मूड और नींद की गुणवत्ता को बढ़ा सकता है। मस्तिष्क में सेरोटोनिन का स्तर बढ़ने से मूड और नींद की गुणवत्ता में सुधार होता है। कीवी में सेरोटोनिन होता है, जो आपके मूड और नींद की गुणवत्ता को बढ़ा सकता है।

कैंसर से बचाता है: कीवी पेट, आंतों और कोलन के कैंसर को रोकने के लिए विशेष रूप से उपयुक्त हैं, क्योंकि फाइबर और फाइटोकेमिकल्स इन अंगों के सामान्य शरीर विज्ञान को बढ़ावा देते हैं।

Posted By: Navodit Saktawat

  • Font Size
  • Close